#EducationHouse Question Answer (1)

कंप्यूटर के हर बटन पर अक्सर होता है लेकिन स्पेस बार पर क्यों नहीं होता ?

EducationHouse Question Answer

दोस्तों कंप्यूटर का कीबोर्ड टाइपराइटर के कीबोर्ड पर आधारित है. पर इसके फंक्शन ज्यादा है और इसके लिए अलग से निशान हैं | टाइपराइटर में भी स्पेस बार सबसे नीचे होता था जो कि शब्दों के बीच ब्लेंक यानी खाली स्पेस के लिए इसका इस्तेमाल होता था. इसलिए उस पर कुछ भी लिखने की जरूरत नहीं थी | शुरुआती मशीनों में यह बार काफी लंबा होता था. पूरे कीबोर्ड की चौड़ाई वाला | कंप्यूटर में सबसे नीचे कंट्रोल फंक्शन और Windows के अलावा नेविगेशन बटन भी आ गए हैं इसलिए स्पेस बार छोटा होता जा रहा है. #EducationHouse Question Answer

EducationHouse Question Answer

मोमबत्ती का आविष्कार कैसे हुआ था?

दोस्तों क्या आपने कभी सोचा है? आप हर रोज इस मोमबत्ती का इस्तेमाल अपने घर को रोशन करने के लिए करते हैं, उस मोमबत्ती का आविष्कार कैसे हुआ था | अगर आपको नहीं पता तो चलिए आज हम आपको बता देते रहें है. दरअसल मोमबत्ती पुरानी मसालों का एक एडवांस वर्जन है. या यूं कहें की मोमबत्ती मसालों का एक सुधरा हुआ रूप है | पुराने राजमहलों में सेंड लेयर कैंडल लगाने के लिए ही थे. सबसे पुरानी मोमबत्ती का उल्लेख ईसा से 200 साल पहले चीन में मिलता है | जब मोमबत्ती का आविष्कार नहीं हुआ था तब इसका निर्माण व्हेल के चर्बी से किया जाता था। उसके बाद यूरोप में प्राकृतिक वसा, तेल, और मोम से इसका निर्माण किया जाने लगा। रोम में मोम की अत्यधिक लागत के कारण तेल से इसका निर्माण होता था  जिसे आज हम मोमबत्ती कहते हैं इसकी खोज 1830 में की गई थी. EducationHouse Question Answer

EducationHouse Question Answer

अंटार्कटिका की खोज किसने और कब की?

दोस्तों अंटार्कटिका के होने की संभावना करीब 2000 साल पहले से ही थी. जिसे टेरा ऑस्ट्रेलिया यानी दक्षिणी प्रदेश के नाम के एक काल्पनिक इलाके के रुप में जानते थे | यह भी माना जाता था की ऑस्ट्रेलिया का दक्षिणी इलाका दक्षिणी अमेरिका से जुड़ा है. यूरोपियन नक्शों में इस काल्पनिक भूमि का दर्शाना लगातार तब तक जारी रहा जब तक कि 1773 में ब्रिटिश अन्वेषक कैप्टन जेम्स कुक ने अपने दो जहाजों के साथ अंटार्कटिका सर्किल को पार करके उस संभावना को खारिज नहीं कर दिया पर जबरदस्त ठंड के कारण कैप्टन कुक को अंटार्कटिक के सागर तट से 121 किलोमीटर दूर से वापस लौटना पड़ा | इसके बाद सन 1820 में रूसी नाविकों ने अंटार्टिका को पहली बार देखा. उसके बाद कई नाविकों को इस बर्फानी जमीन को देखने का मौका मिला | 27 जनवरी 1820 को रुसी वेन फेबियेंन, गोतिलेब वेन, बेलिंगसेसैन और मिखाइल पेनोविच लाजरोव जो, अभियान की कप्तानी कर रहे थे अंटार्टिका की मुख्य भूमि के अंदर पानी पर 32 किलोमीटर तक गए थे और उन्होंने वहां बर्फीले मैदान देखे थे | प्राप्त दस्तावेजों के अनुसार अंटार्कटिका की मुख्य भूमि पर पहली बार पश्चिम अंटार्कटिका में अमेरिकी सील शिकारी जॉन डेविस 7 फरवरी 1821 को उतरा था हालांकि कुछ इतिहासकार इसे सही नहीं मानते |

EducationHouse Question Answer

समुद्र कितना गहरा होता है?

दोस्तों समुद्र की गहराई अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग होती है. सारी दुनिया के सागरों की औसत गहराई 12,100 फुट है | दुनिया में सबसे गहरा पश्चिम प्रशांत महासागर के मेरियाना ट्रेंच में है जिसे चैलेंजर डीप कहा जाता है इसकी गहराई को सबसे पहले 1875 में ब्रिटिश कोएचएमएस शैलेंद्र के नाविकों ने नापा था | दोस्तों इसकी गहराई 33,755 से 37,814 फुट के बीच है |

Facebook आपके लिए ला रहा है चोरी किया हुआ ये फीचर!

Facebook आपके लिए ला रहा है चोरी किया हुआ ये फीचर!

दुनिया की जानी मनी सोशल नेटवर्किंग साईट फेसबुक अपने यूजर्स के लिए हमेसा कोई ना कोई नया फीचर्स पेश करती रहती  हैं। अब एक बार फिर से फेसबुक एक नए फीचर पेस करने वाली है। फेसबुक पहले है फेस फिल्टर्स नाम का फीचर लोंच कर चुकी है | Facebook new feature 

दोस्तों आपको बता दे की फेसबुक को जन्म से ही चोरी करने की आदत है. पहले मार्क जुकरबर्ग ने फेसबुक को चुरा लिया और अपने नाम पेटेंट करवा कर लौंच कर दिया. उसके बार दुनिया की अलग अलग वेबसाइट से कई फीचर चोरी किये और अब फेसबुक ने एक बार फिर स्नैपचैट के पॉपुलर फीचर स्ट्रीक को अपने प्लेटफॉर्म पर लाने की तैयारी कर ली है। इस फीचर में यूजर्स दो दिन लगातार अपने किसी फेसबुक फ्रेंड से बता करेंगे तो उनके पास ‘keep you streaking’ नोटिफिकेशन आएगा। इस फीचर्स में यूजर्स को इमोजी ऑप्शन का स्टेटस भी मिलेगा। स्नैपचैट की तरह इस फीचर के जरिए फेसबुक भी यूजर्स को इंगेज रखने की कोशिश कर रहा है।

वैज्ञानिकों ने किया खुलासा! इस तरह हुई धरती पर जीवन की शुरुआत

अगर मार्क जुकरबर्ग ने फेसबुक को चुराया नही होता तो आज फेसबुक भारत का होता |

facebook new feature

कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार, फेसबुक स्नैपचैट के पोपुलर स्ट्रीक फीचर की कई दिनों से टेस्टिंग कर रहा है और इसे जल्द ही फेसबुक के मुख्य फीचर के तौर पर शामिल किया जा सकता है. इससे पहले भी फेसबुक ने स्नैपचैट के कुछ फीचर को अपनी ऐप में जोड़ा था जैसे- कैमरा फीचर और फेस फ़िल्टर फीचर. ये  स्नैपचैट से काफी मिलते जुलते है.

Mozilla ने लॉन्च किया नया Firefox Quantum ब्राउजर, गूगल क्रोम से दोगुनी स्पीड से चलेगा !

दोस्तों आपको बता दे की कुछ यूजर्स को अपने फेसबुक अकाउंट पर ये फीचर नजर आया है, जिसके बाद ये अनुमान लगाया जा रहा कि इस फेसबुक जल्द ही इस फीचर को रोल आउट कर सकती है। फेसबुक पिछले कुछ समय से लगातार अपने  फीचर्स को अपडेट कर रहा है। इस अपडेट में कंपनी ने अपने प्लेटफॉर्म पर कुछ फीचर्स भी शामिल किए हैं साथ ही Facebook कुछ फीचर्स को हटाने की तैयारी भी कर रहा है। स्ट्रीक स्नैपचैट का एक पॉपुलर फीचर है. जिसमें स्ट्रीक बढ़ाने के लिए ज्यादातर यूजर इसमें घंटों तक समय बिताते हैं. जिससे यूज़र इंगेजमेंट बढ़ता है. फेसबुक इस तकनीक का इस्तेमाल करना चाहता है. जिससे फेसबुक पर स्ट्रीक काउंट को लेकर इंगेजमेंट बना रहे. फेसबुक ने हाल ही में ऐलान किया था कि वह ऐप रिक्वेस्ट फीचर खत्म करने जा रहा है। दोस्तों आपको बता दें कि इसी फीचर के जरिए आपके फेसबुक फ्रेंड आपको कैंडीक्रश जैसे गेम्स की रिक्वेस्ट भेज पाते हैं।

WordPress Website Tutorial in hindi

Personal loan: Apply Online For Personal loan at lowest Interest rate in India

 

वैज्ञानिकों ने किया खुलासा! इस तरह हुई धरती पर जीवन की शुरुआत

वैज्ञानिकों ने किया खुलासा! इस तरह हुई धरती पर जीवन की शुरुआत

पृथ्वी पर जीवन की शुरुआत किस तरह हुई यह सवाल इंसानों के लिए सदियों से जिज्ञासा का विषय बना हुआ है। इस सवाल का जवाब जानने के लिए दुनिया का हर वेक्ति उत्सुक रहता है. दुनियाभर के वैज्ञानिकों ने अब तक इस पर विभिन्न शोध व अध्ययन किये है और कई मत भी दिए है. हाल ही में हुवे एक शोध में वैज्ञानिकों के मुताबिक, संभव है कि अंतरिक्ष की धूल के प्रवाह में बह कर धरती पर पहुंचे जैविक कणों से पृथ्वी पर जीवन की शुरुआत हुई हो. 

Scientists have revealed This how life started earth

Popular – Mozilla ने लॉन्च किया नया Firefox Quantum ब्राउजर, गूगल क्रोम से दोगुनी स्पीड से चलेगा !

यूके की एडिनबरा यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों की टीम इसी नतीजे पर पहुंची है की ब्रह्मांड में मौजूद धूल लगातार पृथ्वी के वायुमंडल में घुसने की कोशिश करती रहती है. वैज्ञानिक इसे लगातार होने वाली बमबारी भी कहते हैं. वैज्ञानिकों को लगता है कि धूल के चलते दूसरे ग्रहों तक भी जीवन पहुंच सकता है. यह रिसर्च एस्ट्रो बॉयोलॉजिकल नामक पत्रिका में छपी है.

Scientists have revealed This how life started earth

Popular – मार्केट में आने वाली है 1 पहिए वाली बाइक!

अनुसंधानकर्ताओं का कहना है कि धरती के वायुमंडल पर निरंतर होने वाली अंतरग्रहीय धूल की बारिश से बाहरी दुनिया के सूक्ष्मजीवी यहां आ सकते हैं या धरती के जीव दूसरे ग्रहों में भी पहुंच सकते हैं। इस टीम में शामिल एक भारतीय वैज्ञानिक प्रोफेसर अर्जुन बेरेरा के अनुसार “जिस मात्रा में ब्रह्मांड की धूल टकराती है उससे ऑर्गेनिज्म्स बहुत ही लंबी दूरी तक दूसरे ग्रहों तक यात्रा करने लग सकते हैं. इससे जीवन और ग्रहों के वायुमंडल के जन्म के बारे में दिलचस्प नजरिया पैदा होता है.” इस शोध टीम ने यह भी कहा कि धूल की धारा पृथ्वी के वायुमंडल में मौजूद जैविक कणों से इतनी गति से टकरा सकती है कि उन्हें अंतरिक्ष में भेज सके। इस तरह की घटना से जीवाणु और दूसरी प्रजातियां सौरमंडल में एक ग्रह से दूसरे ग्रह या उससे भी आगे तक पहुंचने का रास्ता बना सकते हैं।

Scientists have revealed This how life started earth

Popular –  क्या आप मिलेनियर्स क्लब में शामिल होना चाहते हैं

वैज्ञानिकों की शोध के मुताबिक ब्रह्मांड में मौजूद धूल 70 किलोमीटर प्रति सेकेंड की रफ्तार से पृथ्वी के वायुमंडल में कणों से टकराती है. पृथ्वी से 150 किलोमीटर ऊपर मौजूद वायुमंडल में पार्टिकल गुरुत्व बल के कारण बाहर निकल जाते हैं. लेकिन दूसरी और से होने वाली धूल की बमबारी या बारिस की वजह से वह वापस धरती की तरफ फेक दिये जाते हैं.

Mozilla ने लॉन्च किया नया Firefox Quantum ब्राउजर, गूगल क्रोम से दोगुनी स्पीड से चलेगा !

Mozilla ने लॉन्च किया नया Firefox Quantum ब्राउजर, गूगल क्रोम से दोगुनी स्पीड से चलेगा !

दोस्तों मोजिला कम्पनी ने हाल ही में गूगल क्रोम और माइक्रोसॉफ्ट को कड़ी टक्कर देने के लिए नेक्स्ट जेनेरेशन ब्राउजर फायरफॉक्स क्वान्टम लॉन्च किया है। मोजिला का दावा है की यह पिछले 13 साल में दिया जाने वाला अब तक सबसे बड़ा अपडेट है। मोजिला का यह ब्राउजर विंडोज कंप्यूटर , मैक, एंड्रॉयड और आईओएस के लिए जारी किया गया है. फायरफॉक्स क्वान्टम गूगल क्रोम और माइक्रोसॉफ्ट ऐज ब्राउज़र को कड़ी टक्कर दे सकता है. मोजिला कंपनी फायरफॉक्स क्वान्टम ब्राउजर की खासियत है कि इसमें फायरफॉक्स के पिछले विर्जनस में सबसे महत्वपूर्ण सुधार किया गया है इससे इसकी स्पीड और भी तेज हो जाती है। क्वांटम किसी भी मोजिला ब्राउजर की तुलना में बहुत तेजी से पेश किया गया है. 

new Firefox Meet Firefox Quantum Fast good

मोजिला ने काफी लंबे वक्त के बाद अपना लेटेस्ट ब्राउज़र फायरफॉक्स क्वांटम जरी किया है. लोग मोज़िला के इस अपडेट को अब तक सबसे बड़ा ब्राउज़र अपडेट माना रहे है, इस अपडेट में कई बड़े बदलाव किए गए हैं. नए फायरफॉक्स क्वांटम का यूज करने वाले लोगों का कहना है कि मोज़िला ने सर्फिंग स्पीड में काफी हद तक इज़ाफ़ा किया है. क्वालिटी लुक और बेहतरन फील के साथ नए फायरफॉक्स को गूगल क्रोम की तरह यूज़र्स फ्रेंडली बनाया गया है. new Firefox Meet Firefox Quantum Fast good

Popular – Jio का धमाकेदार ऑफर, 399 के रिचार्ज पर 2599 रु. कैशबैक!

मोजिला कंपनी का कहना है कि नए ब्राउज़र Firefox क्वांटम का कोरी इंजन पूरी तरह से नई टेक्नोलॉजी पर बनाया गया है. इस ब्राउजर का इंटरफ़ेस बिल्कुल नया है. मोजिला क्वांटम अपने प्रतिद्वंदी ब्राउज़रों को बाजार में कड़ी टक्कर देगा | Google Chrome की तरह इसमें भी आप एक से अधिक टैब खोल सकते हैं. कंपनी ने सबसे ज्यादा जोर इसकी स्पीड पर दिया है लेकिन यह तो इसके इस्तेमाल करने पर ही पता चलेगा कि यह कितना स्पीड प्रोवाइड करता है या फिर यह सिर्फ बनी बनाई बातें हैं | इससे पहले मोज़िला फ़ायरफ़ॉक्स ने साल 2004 में Firefox 1.0 लांच किया था और उसके बाद लगभग 13 सालों के इंतजार के बाद अब यह अपडेट आया है. मोज़िला फ़ायरफ़ॉक्स क्वांटम की लगभग 2 महीने तक बीटा टेस्टिंग भी की थी|  कंपनी के अनुसार अमेरिका और कनाडा में Firefox Browser में Google  को डिफॉल्ट सर्च इंजन बनाया गया लेकिन भारत में अभी भी Firefox का डिफॉल्ट सर्च इंजन याहू ही है.

new Firefox Meet Firefox Quantum Fast good

new Firefox Meet Firefox Quantum Fast good

मोजिला कंपनी के अनुसार Firefox के लेटेस्ट वर्जन क्वांटम में आपको 90 से अधिक भाषा मिलती हैं जिनमें से 70 से अधिक आपको प्री इंस्टॉल दी गई है. कंपनी के अनुसार यूजर के समय की बचत करने के लिए नए Firefox क्वांटम में आपको होम पेज पर सबसे ज्यादा यूज होने वाली वेबसाइट के टैब डिफॉल्ट तौर पर दिए गए हैं, जिनमें जैसे कि पिंटरेस्ट, YouTube, Wikipedia, याहू जैसी वेबसाइट शामिल है | कंपनी के अनुसार आपको इसमें और भी बेहतरीन फीचर्स देखने को मिलेंगे | अगर मोज़िला की मानें तो नया Firefox क्वांटम गूगल क्रोम से 30% कम मेमोरी खर्च करेगा व उससे दोगुनी स्पीड में काम करेगा | दोस्तों लास्ट में हम यही कहना चाहेंगे कि कंपनी के दावों का तो तभी पता चलेगा जब हम इसको यूज करेंगे और इसकी स्पीड टेक्स्ट करेंगे. Download Mozilla Firefox Quantum Browser 

आप हमें कमेंट में बता सकते हैं आप कौन सा ब्राउज़र यूज करते हैं और क्या आप फ़ायरफ़ॉक्स क्वांटम को यूज करने वाले हैं ? आपके हिसाब से सबसे बेस्ट ब्राउज़र कौन सा है ? हमें आपके कमेंट का इंतजार रहेगा |

 

इंटेक्स ने लॉन्च किया Aqua Jewel 2 4G VoLTE सपोर्ट बजट स्मार्ट फोन, जानें कीमत और फीचर्स

इंटेक्स ने लॉन्च किया Aqua Jewel 2 4G VoLTE सपोर्ट बजट स्मार्ट फोन

भारतीय स्मार्ट फोने कम्पनी इंटेक्स ने अपना बजट स्मार्ट फोने इंटेक्स लॉन्च कर दिया है. Aqua Jewel 2  सेलफोन 4 जी VOLTE का सपोर्ट करता है। इस हैंडसेट की कीमत 5,899 रुपये रखी गयी है। इसको ग्राहक दो कलर वैरिएंट शैंपेन और ब्लैक में खरीद सकेंगे। Intex Aqua Jewel 2 को कंपनी ने अपने बजट श्रेणी के स्मार्ट फोने सेगमेंट में पेश किया है। इसके अलावा फोन में की खासियत इसका ऑपरेटिंग सिस्टम है। यह फोन एंड्राइड 7.0 नौगट पर आधारित है। इसके अलावा फोन के रियर पैनल पर लाउडस्पीकर दिया गया है। 

Popular – भारत में लॉन्च हुआ नोकिया का सबसे सस्ता फोन, दो दिन का बैट्री बैकअप, जानें कीमत और स्पेसिफिकेशन

Intex Aqua Jewel 2

Popular – 4 GB RAM smartphone with a budget of Rs 10,000

इंटेक्स का यह स्मार्टफोन 5 इंच की HD डिस्प्ले के साथ आता है। इस फोन में 1.3GHz का क्वाड कोर स्प्रेडट्रम प्रोसेसर लगाया  गया है। फोन को स्पीड देने के लिए इसमें 2जीबी की रैम है जबकि इसकी इंटरनल मैमोरी 16जीबी दी गई है। कंपनी की मानें तो माइक्रोएसडी कार्ड की मदद से यह स्टोरेज 32जीबी तक बढ़ाई जा सकती है। फोटोग्राफी के लिए 8 मेगापिक्सल का रियर कैमरा है जो LED फ़्लैश के साथ आता है, वही सेल्फी के लिए  फ्रंट कैमरा 5मेगापिक्सल का है। फोन की बैटरी 2500mah की है। फोन में बेहतर ग्राफिक्स के लिए Mali 400 जीपीयू दिया गया है। Intex Aqua Jewel 2 price features

Intex Aqua Jewel 2

इसके अलावा इंटेक्स ने Aqua सीरीज में कंपनी ने Aqua Lions T1 स्मार्टफोन को अपनी ऑफिशियल वेबसाइट पर लिस्ट किया है,  इंटेक्स ने फोन की उपलब्धता के बारे में कोई जानकारी नहीं दी है। Aqua Lions T1 स्मार्टफोन एंड्राइड 7.0 नौगट पर पर कम करता है। साथ ही इस स्मार्टफोन के फ्रंट कैमरा में LED फ्लैश दिया गया है। जो Aqua Jewel 2 में नही है. इस फोने में यूनिबॉडी डिजाइन दिया गया है। इस स्मार्टफोन में 5.2-इंच का (480x 854 पिक्सल) डिसप्ले दिया गया है। साथ ही Aqua Lions T1 में 1.3GHz क्वाड-कोर Spreadtrum SC9832 प्रोसेसर का इस्तेमाल किया गया है। रेम की बात करे तो इसमें 1जीबी रैम के साथ 8जीबी इंटरनल स्टोरेज के लिए दी गई है। आप इसे माइक्रोएसडी कार्ड की सहायता से 64जीबी तक  बढ़ा सकते है।

Popular – Moto ने भारत में लॉन्च किया दमदार Moto X4, जानें कीमत और फीचर्स

Intex Aqua Jewel 2 price features

इंटेक्स ने इस फोन में 8मेगापिक्सल का रियर कैमरा दिया है जो LED फ़्लैश के साथ आता है, इसका फ्रंट कैमरा 5मेगापिक्सल का है। फोन की बैटरी 2700mah की है। यह बैटरी 200 घंटों का स्टांड बाय टाइम देती है।

Popular – 5000 रुपए से भी कम में मिल रहा है सैमसंग गैलेक्सी S7 स्मार्टफोन