अगर आप धूम्रपान करते है तो ये ख़बर आपके लिए है, धूम्रपान से मुक्ति दिलाने वाला स्टार्टअप

ivape

ivape

भारत में वर्तमान में लगभग 108 मिलियन लोग धूम्रपान करते हैं, तंबाकू विकलांगता का दूसरा सबसे बड़ा कारण है | धुम्रपान करने वाले कई लोग इससे छुटकारा पाने के लिए किसी अन्य स्वस्थ विकल्प की तलाश में रहते हैं | ivape.in ऐसे लोगों के लिए काफी उपयोगी हो सकता है, यह 10 लाख लोगों को वैपिग से जुड़ने में मदद कर चुका है | यह धूंरपान करने वालों को तंबाकू की छुड़ाने में मदद करता है, इसके ई – लिक्विड्स में केवल एफडीए अनुमोदित फ्लेवर का इस्तेमाल किया जाता है |
ivape

ivape

कई अध्ययनों से यह पता चला है कि, वैपिग तमाकू आधारित धूम्रपान सिगरेट की तुलना में 95% कम हानिकारक है | अमेरिका में हर साल 480,000 अधिक मौतें तंबाकू के कारण होती हैं | लेकिन वैपिग जैसा वैकल्पिक स्वास्थ्यवर्धक विकल्प कारगर साबित होता है | सिगरेट जो  धुआ पैदा करती है वह स्वास्थ्य के लिए खतरा है, इसमें साइनाइड, कार्बन मोनोऑक्साइड और मेथनॉल जैसे हानिकारक रसायन भी शामिल हैं  | वैपिग में हानिकारक रसायनों में से कोई भी शामिल नहीं है |