दुबई पुलिस की ये खास बातें आपको कोई नहीं बताएगा

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम अनिल पायल है, दुबई एक ऐसा शहर है जो आजकल दुनिया भर में काफी पॉपुलर है, हर कोई यहां एक न एक बार घूमने के लिए आना जरूर चाहता है | पर ऐसा क्या है जो, दुबई आजकल इतना ज्यादा फेमस है और लगातार इसकी पापुलैरिटी बढ़ती जा रही है | तो दुबई में ऐसी बहुत सी चीजें है जो इसे दुनिया से अलग बनाती है | जैसे सबसे ऊंची बिल्डिंग, बेहद खूबसूरत पार्क्स, सबसे बड़े मॉल और भी बहुत कुछ | यहां की पुलिस भी दुनिया से काफी अलग और काफी एडवांस है तो हमें भी यहां की पुलिस के बारे में काफी कुछ जान लेना चाहिए, इसलिए आज हम आपको दुबई की पुलिस और Dubai police cars के बारे में कुछ हैरान करने वाली बातें बताने वाले हैं |

Dubai police cars

Dubai police cars

दुबई में हर इंसान के पास औसतन 2 Car है और इनमें Ferrari and Lamborghini जैसी Super Cars भी काफी ज्यादा है | तो अगर कोई इन कार्स से क्राइम करता है तो उसे पकड़ना वहां की पुलिस के लिए काफी मुश्किल हो सकता था | इसीलिए वहां की पुलिस को भी काफी एडवांस बनना पड़ा दुबई की पुलिस के पास काफी खूबसूरत सुपर कार्स तो है ही साथ ही यह कार्स काफी पावरफुल भी है | जैसे इनकी लेटेस्ट कार लैंबोर्गिनी अवेंटेडोर में 12 सिलेंडर 6.5 लीटर इंजन लगा हुआ है जो इसे काफी पावरफुल बनाता है |

सुपर हीरो से कम नहीं है इन इंसानों की शक्तियां

बहुत से लोगों को अपनी कार्स की नंबर प्लेट पर कुछ स्पेशल नंबर डलवाने का शौक होता है | दुबई पुलिस की कार्स पर भी कुछ स्पेशल नंबर देखने को मिल सकते हैं जैसे अभी यहां की पुलिस कार बीएमडब्ल्यू I8 का नंबर है 2020 | ऐसे यहां की Government ने सन 2020 में होने वाले World Dubai Expo की वजह से किया था |

Dubai police cars

Dubai police cars

2017 में दुबई पुलिस ने अपने बेड़े में शामिल कि दुनिया की सबसे तेज पुलिस कार को जिसका नाम है Bugatti Veyron इसकी हाईएस्ट स्पीड है लगभग 407 किलोमीटर प्रति घंटा | इसके इंजन की ताकत 1000 हॉर्स पावर है, ये 0 से 96 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड महज 2.5 सेकंड में पकड़ लेती है | इससे पहले दुनिया की सबसे तेज पुलिस कार होने का रिकॉर्ड इटली की लेंबोर्गिनी कार्स के पास था जिनकी स्पीड है 370 किलोमीटर प्रति घंटा थी | दुबई पुलिस की बुगाटी वेरॉन की कीमत है 1.7 मिलियन डॉलर यानी लगभग 11 करोड़ 82 लाख रुपए |

आर्टिकल 370 को क्यों नहीं हटाया जा सकता और इसे बनाया किसने था

दुबई की पुलिस काफी फ्रेंडली भी है लेकिन अच्छे लोगों के लिए | आप अगर दुबई में इन सुपरकार्स को देखना चाहते हैं तो आप दुबई मॉल या फिर जूमेरा रोड पर जाइए, क्योंकि वहां पर आपको यह पुलिस कार्स पेट्रोलिंग करती हुई दिख सकती है | दुबई की पुलिस का कहना है कि अक्सर टूरिस्ट मजाक मजाक में उनसे खुद को अरेस्ट करने के लिए भी कहते हैं, ताकि वह इन सुपर कार्स पर बैठ सकें |

Dubai police cars

Dubai police cars

दुबई की पुलिस के पास आपको फेरारी भी देखने को मिलेगी, दुबई पुलिस के पास जो फेरारी है उसका नाम है Ferrari FF | एक और अमेजिंग बात यह है कि दुबई पुलिस के अधिकारियों ने अनाउंस किया है कि फेरारी एफएफ को केवल दुबई पुलिस की महिलाएं ही ड्राइव करेंगी |

अगर आपको IAS, IPS, IFS, IRAS, SP, DSP आदि बनान है तो इससे बेहतर जानकारी और कही नही मिलेगी

इतनी शानदार कार्स जो दुबई पुलिस के पास है इन्हें खुद अपनी कमाई से खरीद कर चलाना हर किसी के बस की बात नही होती, क्योंकि यह कार्स काफी ज्यादा महंगी है | तो इन्हें चलाने का सबसे आसान तरीका है कि दुबई पुलिस को ज्वाइन कर लिया जाए, तब तो यह कार्स चलाने को मिलेंगी | यह इतना आसान नहीं है दुबई पुलिस की इन कार्स को चलाने के लिए ड्राइवर को काफी कड़ी ट्रेनिंग से होकर गुजरना पड़ता है | यहां की पुलिस को कई लैंग्वेज आनी चाहिए, इनकी कम्युनिकेशन स्किल और ड्राइविंग स्किल अच्छी होनी चाहिए | इनका Sense of Humor भी अच्छा होना चाहिए इन सब शर्तों को पूरा करने के बाद ही यह कार्स चलाने को मिलती है |

Dubai police cars

Dubai police cars

दुबई पुलिस फोर्स में केवल ऐसी सुपर कार्स ही नहीं है बल्कि उनके पास एनवायरमेंट को सेव करने वाली Hybrid Electric Cars भी है | यानी यहां की पुलिस शानदार सुपर कार्स के साथ खुद को फ्यूचरिस्टिक तो बनाती है,साथ ही एनवायरनमेंट को सेफ रखने पर भी काम करती है |

ट्रेन ड्राइवर या लोको पायलट बनना है तो ये जानकारी खास आपके लिए है

दुबई पुलिस स्टेशन अब स्मार्ट हो रहे हैं | दुबई में दुनिया का पहला स्मार्ट पुलिस स्टेशन है जिसमें किसी इंसान की जरूरत नहीं है | यहां पर आप किसी भी तरह के क्राइम्स की रिपोर्ट Futuristic machine से दर्ज कर सकते हैं | यहां पर आपको कोई पुलिस वाला नहीं दिखाई पड़ेगा, केवल आपको यहां मशीन ही दिखाई देगी और उनसे आप काफी आसानी से रिपोर्ट कर सकेंगे फिर दुबई पुलिस इसपर तुरंत एक्शन लेंगी |

रोलेक्स की घड़ियां इतनी लग्जरी और महंगी क्यों होती है, हेरान कर देने वाली जानकारी

फ्लाइंग बाइक, दुबई की पुलिस दुनिया की पहली पुलिस है जिसके पास उड़ने वाली बाइक भी है और जल्दी ही मतलब केवल 1 साल में ही बहुत सी Flying bikes दुबई पुलिस के बेड़े में शामिल हो जाएंगी | इन बाइक्स की स्पीड 96 किलोमीटर प्रति घंटा है | यह एक बार चार्ज होने पर 40 मिनट तक उड़ सकती है फिलहाल ऐसी केवल एक बाइक दुबई पुलिस के पास है वो भी Training Purpose के लिए, 2020 में ऐसी बहुत सी बाइक इनके पास होंगी |

Dubai police fling bike

Dubai police fling bike

दुबई की पुलिस काफी फ्यूचरिस्टिक है यह तो आपने अब तक जान ही लिया होगा | इसको और भी फ्यूचरिस्टिक बनाते हैं ‘रोबोट पुलिस ऑफिसर‘| दुबई का पहला Robot police officer यहां के मॉल्स और टूरिस्ट प्लेसेस में पेट्रोलिंग करता हुआ आपको दिख सकता है | इनको आप रिपोर्ट कर सकते हैं, फाइंस भर सकते हैं और इन रोबोट पुलिस के चेस्ट पर लगी टचस्क्रीन के द्वारा आप इंफॉर्मेशन हासिल कर सकते हैं | यहां कि गवर्नमेंट 2030 तक अपनी पुलिस फोर्स में 25% रोबोट्स शामिल करना चाहती है | हालाकी ये रोबोट्स इंसानों को रिप्लेस करके नहीं रखें जाएंगे बल्कि अलग से रखे जाएंगे |

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस क्या है, AI हमारी जिन्दगी पूरी तरह बदल देगी

दोस्तों आर्टिकल लिखने के लिए मुझे काफी मेहनत करनी पड़ती है और मेरा काफी समय लग जाता है इसलिए में आपसे एक लाइक, शेयर और कमेंट की उम्मीद करता हूँ… धन्यवाद

Connect With Us on Facebook | Follow us on Instagram | Join WhatsApp Group

सुपर हीरो से कम नहीं है इन इंसानों की शक्तियां

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम अनिल पायल है, बैटमैन, सुपरमैन और स्पाइडरमैन यह कुछ ऐसे काल्पनिक चरित्र हैं जिन्हें बचपन में हम अपना आदर्श मानते थे या आप में से कुछ लोग ऐसे भी होंगे जिन्हें इन अंग्रेज सुपर हीरो के मुकाबले अपने देसी हीरो नागराज या शक्तिमान ज्यादा पसंद होंगे | लेकिन दोस्तों Superhero सिर्फ कॉमिक्स या फिल्मों में ही नहीं बल्कि असल जिंदगी में भी होते हैं | तो आज हम आपको कुछ ऐसे ही अनोखे Real life Superhero के बारे में बताने जा रहे हैं, जो सुपरमैन की तरह उड़ते जहाज या स्पाइडरमैन की तरह चलती ट्रेन को तो नहीं रोक सकते लेकिन फिर भी उनकी अद्भुत शक्तियां आपको हैरान जरूर कर देंगी |

आर्टिकल 370 को क्यों नहीं हटाया जा सकता और इसे बनाया किसने था

Real life superhero

Real life superhero

STEPHEN WELTSHIRE

हम सभी अपनी जिंदगी के खूबसूरत पलों को यादगार के रूप में संजोकर रखना चाहते हैं और उसके लिए इस्तेमाल करते हैं कैमरे का, फिर चाहे वह DSLR हो या मोबाइल फोन का Digital camera | लेकिन इंग्लैंड में रहने वाले स्टीफन विलशायर एक ऐसे शख्स हैं जिन्हें कीसी भी कैमरे की जरूरत नहीं है | वह जिस इंसान या वस्तु को एक बार देख लेते हैं उसकी तस्वीर उनके दिमाग में छप जाती है और वह बिना उसके निशान वस्तु को दोबारा देखे उसकी हूबहू तस्वीर बना सकते हैं | अभी कुछ ही दिनों पहले वह इंग्लैंड से अमेरिका गए थे वहां उन्होंने हेलीकॉप्टर से 45 मिनट तक पूरे न्यूयॉर्क शहर का आसमान से भ्रमण किया और फिर नीचे उतर कर उन्होंने पूरे न्यूयॉर्क शहर की तस्वीर बना डाली | स्टीफन 5 साल की उम्र से ही चित्रकारी करते हैं और अब तक दुनिया के सभी बड़े शहरों का दौरा करके उनकी तस्वीर बना चुके हैं |

इन 5 जानवरों में पाई जाती है सुपर पॉवर

Real life superhero

Real life superhero

SLAVISA PAJKIC

यूरोप के छोटे से देश सेर्बिया के निवासी SLAVISA PAJKIC एक चलते फिरते जेनरेटर हैं | इनके शरीर में मानो खून के जगह बिजली दौड़ती है यह अपने शरीर से ट्यूबलाइट, बल्ब इत्यादि को सिर्फ छूकर जला सकते हैं | अगर इनके सर से माचिस की तीली लगाओगे तो वह तीली जल उठेगी, सर्दी बहुत है लेकिन नहाने को गर्म पानी नहीं तो कोई बात नहीं है यह अपने हाथों में धातू के रोड पकड़कर मिनटों में पानी गर्म कर सकते हैं | सालविसा आसानी से हाई वोल्टेज के बिजली के तारों को हाथों से पकड़ लेते हैं और इनको कोई बिजली का झटका भी नहीं लगता, लेकिन अगर यह आपको सिर्फ अपनी एक उंगली से ही छू लें तो आपको इतनी तेज बिजली का झटका लगेगा जो आपके लिए जानलेवा भी हो सकता है| अगर आप भी पिज़्ज़ा या हॉटडॉग जैसे किसी भी चीज को खाते हैं तो कुछ देर उसे माइक्रोवेव में रखकर गर्म जरूर करते होंगे लेकिन सालविसा सिर्फ कुछ सेकंडो तक अपने हाथों में खाने को पकड़ कर उसे गर्म कर देते हैं |

इन 6 चीजों के साथ दुध पीना है बेहद हानिकारक! एक बार जरुर पढ़े

Real life superhero

Real life superhero

WIM HOF

विम हॉफ नीदरलैंड के रहने वाले हैं उनका शरीर एक अद्भुत खासियत लिए हुए हैं | वह एक सामान्य इंसान से कई गुना ज्यादा ठंड को सहन कर सकते हैं इसी वजह से उन्हें द आइसमैन के नाम से भी जाना जाता है| विम कई घंटे तक बिना कपड़े पहने ही ठंडी बर्फ पर गुजार सकते हैं अनोखी बात यह है कि इस दौरान उनके शरीर के तापमान में बिल्कुल भी गिरावट नहीं आती | हॉफ के नाम कुल 26 विश्व रिकॉर्ड हैं जिनमें दुनिया का सबसे लंबे समय तक चलने वाला आइस वॉक भी शामिल है | 2007 में उन्होंने सिर्फ निक्कर और जूते पहनकर ही 6.5 किलोमीटर तक माउंट एवरेस्ट की चढ़ाई की थी लेकिन पैर में चोट लगने की वजह से भी शिखर तक नहीं पहुंच सके | सन 2011 में -4 डिग्री सेल्सियस की खून जमाने वाली ठंड में विम ने लगातार एक घंटा 52 मिनट और 42 सेकंड तक बर्फ में रहने का वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया था | सिर्फ इतना ही नहीं वह अंटार्कटिका महासागर में बर्फ के ठंडे पानी में सबसे लंबी दूर तक तैरने का विश्व रिकॉर्ड भी अपने नाम कर चुके हैं|

पृथ्वी पर सच में मौजूद हैं सुपर पावर वाले व्यक्ति!

Real life superhero

Real life superhero

ISAO MACHII

Isao Machii आज के युग के एक लाजवाब तलवारबाज हैं | उनके बारे में कहा जाता है कि अगर उनके हाथ में तलवार हो तो एक बंदूक से भी आप उनका कुछ नहीं बिगाड़ सकते | जापान में जन्मे इसाओ माची को बचपन से ही तलवारबाजी का शौक था लेकिन उनका यह शौक तब दुनिया की नजरों में आया जब एक प्रदर्शन के दौरान उन्होंने अपनी ओर आती बंदूक की गोली को भी अपनी तलवार से दो टुकड़े कर दिए | सिर्फ यही नहीं बल्कि उनके कारनामों की लिस्ट बहुत लंबी है Isao Machii 10 मीटर से भी कम दूरी से बोलिंग मशीन द्वारा लांच की गई तेज रफ्तार बेसबॉल के इतनी फुर्ती से दो टुकड़े कर देते हैं कि सामान्य आंखों से यह देख पाना भी नामुमकिन सा लगता है | इसे देखने के लिए बेहद हाई फ्रेम रेट के कैमरों का इस्तेमाल होता है,बच्चों के खेलने वाली बंदूक से निकली छोटी सी गोली जो बंदूक से निकलने के बाद नजर भी नहीं आती उस गोली के भी माची अपनी तलवार के वार से 2 टुकड़े कर देते हैं |

Real life superhero

JYOTI RAJ

सुपर शक्तिवाले हीरो दुनिया भर में हो और भारत में ना हो ऐसा तो हो ही नहीं सकता | कर्नाटक के ज्योति राज को मंकी मैन के तौर पर जाना जाता है ज्योति सीधी सपाट ऊंची दीवारों, खंभो, पहाड़ों और चट्टानों पर बिना किसी मदद के आसानी से चढ जाते हैं | अपनी इस अनोखी खूबी के बारे में उनका कहना है कि एक बार अपने जीवन से तंग आकर उन्होंने आत्महत्या करने का फैसला कर लिया था जिसके लिए उन्होंने ऊंचे पहाड़ से कूदने की सोची और पलभर में ही वो उस पहाड़ की नामुमकिन सी लगने वाली चढ़ाई पर चढ़कर पहाड़ की चोटी पर जा पहुंचे, तभी उन्होंने देखा कि उन्हें इतनी फुर्ती से पहाड़ पर चढ़ते हुए देख कुछ लोग नीच खड़े होकर तालियां बजा रहे थे | उसी समय से ज्योति ने तय कर लिया कि अब वह अपने जीवन को खत्म नहीं करेंगे बल्कि एक पर्वतारोही बनेंगे| उस दिन के बाद ज्योति ने तेजी से पहाड़ों पर चढ़ने के कई कीर्तिमान अपने नाम किए और उन्हें भारतीय स्पाइडरमैन भी कहा जाने लगा |

68 करोड़ रुपए की घड़ी! दुनिया की 10 सबसे महंगी घड़ियां

दोस्तों आर्टिकल लिखने के लिए मुझे काफी मेहनत करनी पड़ती है और मेरा काफी समय लग जाता है इसलिए में आपसे एक लाइक, शेयर और कमेंट की उम्मीद करता हूँ… और अगर आप मुझे सपोर्ट करना चाहते है तो आप पीले रंग के Follow बटन पर भी क्लिक कर सकते है | धन्यवाद

Connect With Us on Facebook | Follow us on Instagram | Join WhatsApp Group

आर्टिकल 370 को क्यों नहीं हटाया जा सकता और इसे बनाया किसने था

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम अनिल पायल है, आर्टिकल 370 के Removal के बारे में जानने से पहले आपको दो चीजों के बारे में जानना बहुत जरूरी है| सबसे पहले तो यह कि जम्मू और कश्मीर का इंडिया में पूरी तरह से Merger यानी विलय नहीं हुआ था और दूसरी बात यह कि जम्मू और कश्मीर का अपना Constitutions है, अपनी कॉन्स्टिट्यूट एसेंबली है,अपने लॉ हैं | अब बात करते हैं कि Indian Constitution Article 370 के रिमूवल के बारे में क्या कहता है, इंडियन कॉन्स्टिट्यूशन की Article 370 में यह लिखा हुआ है ‘Temporary Provision with Respect to the State of Jammu and Kashmir” जो यह क्लीयरली शो करता है कि,आर्टिकल 370 टेंपरेरि ट्रांसलेशनल और स्पेशल प्रोविजन में लिखा हुआ है |

जेल में कैदियों को कैसा खाना मिलता है, जानकर हैरान रह जायेगे

Article 370 in hindi

इसलिए Indian President सिर्फ एक ऑर्डर जारी करके इसको रिमूव कर सकता है लेकिन यह इतना आसान नहीं है क्योंकि हम सभी जानते हैं कि जम्मू और कश्मीर का भी अपना कॉस्टिट्यूशन है और यही आर्टिकल 370 जो Indian Constitution में लिखा हुआ है सेम यही जम्मू एंड कश्मीर के कॉन्स्टिट्यूशन में भी लिखा हुआ है| इसलिए इंडियन कॉन्स्टिट्यूशन में अगर कोई चेंज किया जाए तो वह जम्मू और कश्मीर के कॉन्सीट्यूशन में  Apply नहीं होगा तो अगर हम इंडियन कॉन्स्टिट्यूशन से आर्टिकल 370 को हटाते हैं तब भी यह जम्मू एंड कश्मीर के कॉन्स्टिट्यूशन में बाकी रहेगा तब पाकिस्तान और हुर्रियत आईसीजी (Hurrayat ICG) यानी International court of justice में जा सकते हैं जहां पर हमारी पोजीशन इस इशु को लेकर काफी वीक हो सकती है |

जिगोलो गंदा है पर धंधा है… यहां महिलाएं लगाती हैं मर्दों की बोली!

राजा हरि सिंह

राजा हरि सिंह

राजा हरि सिंह और जवाहरलाल नेहरू की इस गलती के कारण आर्टिकल 370 को नहीं हटाया जा सकता

अब यहां पर सवाल यह आता है कि, जम्मू और कश्मीर को क्लेम करने पर हम वीक कैसे हो सकते हैं? जबकि यह इंडिया का ही एक अभिन्न भाग है तो इस बात को समझने के लिए हमें पीछे जाना पड़ेगा 1947 में | आजादी के दौरान जम्मू और कश्मीर के राजा हरि सिंह ने यह डिसाइड किया था कि जम्मू और कश्मीर एक आजाद रियासत रहेगा ना ये हिंदुस्तान के साथ रहेगा और ना ही यह पाकिस्तान के साथ रहेगा | इससे पहले कि यह आजाद रह पाता है 22 अक्टूबर 1947 को पाकिस्तान ने जम्मू और कश्मीर पर अटैक कर दिया और इस पर कब्जा कर लिया | राजा हरि सिंह ने इंडिया से मदद मांगी लेकिन इंडिया अपनी आर्मी वहां पर नहीं भेज सका जब तक कि राजा ने Instrument of Execution पर सिग्नेचर न कर दिए |

सड़क किनारे दांत निकालना और कान साफ करना है गैरकानूनी, भारत के 14 अजीबोगरीब कानून!

राजा हरि सिंह ने इंस्ट्रूमेंट ऑफ एक्सेशन पर सिगनेचर किए और जम्मू और कश्मीर को पाकिस्तान के हाथों में जाने से बचा लिया | लेकिन यहां पर एक काफी इंपॉर्टेंट चीज है जिसके बारे में हम सभी को जानना चाहिए वह यह के इंडियन यूनियन को जॉइन करने के लिए दो डॉक्यूमेंटस पर सिग्नेचर करने होते हैं एक है ‘इंस्ट्रूमेंट ऑफ एक्सेशन’और दूसरा है ‘इंस्ट्रूमेंट ऑफ मर्जर’ राजा हरि सिंह ने सिर्फ इंस्ट्रूमेंट ऑफ एक्सेशन पर सिग्नेचर किए थे, इंस्ट्रूमेंट ऑफ मर्जर पर सिग्नेचर नहीं किए थे |

जवाहरलाल नेहरू

इससे पहले कि राजा हरि सिंह इंस्ट्रूमेंट ऑफ मर्जर पर सिग्नेचर करते प्राइम मिनिस्टर श्री जवाहरलाल नेहरू ने रेडियो पर यह घोषणा कर दि कि इंडिया जम्मू और कश्मीर में Referenced के लिए तैयार है | रेफरेंडम का मतलब होता है जनमत संग्रह यानी डायरेक्ट किसी इशु पर जनता की राय ली जाती है हाँ और ना में | तो ये इंफॉर्मेशन यूनाइटेड नेशन को भेज दी गई तो लॉर्ड माउंटबेटन और नेहरू ने मिलकर यह डिसाइड किया कि आर्टिकल 370 बनाया जाए | इंडिया और जम्मू कश्मीर के बीच लीगल रिलेशन बनाने के लिए जवाहर लाल नेहरू ने श्री भीमराव अंबेडकर को इस आर्टिकल के लिए एक ड्राफ्ट तैयार करने के लिए पूछा तो उन्होंने साफ साफ मना कर दिया| तब गोपाल स्वामी आयंगर ने आर्टिकल 370 का एक ड्राफ्ट तैयार किया जिसको 1949 में पार्लियामेंट में पास किया गया |

Hindu Marriage Act ,पत्नी के रहते हुए दूसरी शादी करना कानूनी है या गैर कानूनी!

Constitutions of India

Constitutions of India

इसलिए हम अपने कॉन्स्टिट्यूशन से आर्टिकल 370 को नहीं हटा सकते

अब यहां पर सवाल यह आता है कि आखिर हम आर्टिकल 370 को अपनी कॉन्स्टिट्यूशन से क्यों नहीं हटा सकते हैं? हम सभी जानते हैं कि जब पुतिन ने क्रीमियन पर कब्जा किया था तो पूरी दुनिया ने रसिया को क्रिटिसाइज किया था | कोई भी रसिया के सपोर्ट में नहीं आया था | लेकिन पूरी दुनिया हमें जम्मू एंड कश्मीर के मुद्दे पर सपोर्ट करती है क्योंकि आर्टिकल 370 हमें बचाता है यह हमें जम्मू एंड कश्मीर पर एक लीगल राइट देता है | लेकिन अगर हम इसे अपने इंडियन कॉन्स्टिट्यूशन से हटा दे तब भी जम्मू एंड कश्मीर के कॉन्स्टिट्यूशन में बाकी रहेगा तब यह एक कांट्रडिक्शन पैदा करेगा, तब पाकिस्तान और हुर्रियत के लीडर आईसीजे यानी International court of justice में जा सकते हैं और तब हमारा राइट जम्मू और कश्मीर पर काफी वीक हो जाएगा |

Article 370 in hindi

Article 370 in hindi

हमारी पॉलीटिकल पार्टीज हमेशा आर्टिकल 370 को एक इशु बनाती है लेकिन वह अच्छी तरह से जानती है कि आर्टिकल 370 को नहीं हटाया जा सकता है, लेकिन आर्टिकल 35A को हटाया जा सकता है और इसको हटाया भी जाना चाहिए| जम्मू और कश्मीर की तरह ही किंग्डम ऑफ सिक्किम ने भी सिर्फ इंस्ट्रूमेंट ऑफ एक्सेशन पर सिगनेचर किए थे | लेकिन 1975 में सिक्किम ने इंडिया को ज्वाइन कर लिया और इंडिया का 22 वां स्टेट बना | अगर आप इंडियन कॉन्स्टिट्यूशन  के आर्टिकल 370 के सब आर्टिकल थ्री देखें उसमें क्लीयरली  यह मेंशन किया गया है कि, राष्ट्रपति सिर्फ एक ऑर्डर जारी करके आर्टिकल 370 को रिमूव कर सकता है लेकिन इसी के साथ इसमें कंडीशन लगाई गई है कंडीशन यह है कि स्टेट यानी जम्मू एंड कश्मीर की कॉन्स्टिट्यूट एसेंबली यानी संविधान सभा की रिकमेंडेशन जरूरी है |

सुप्रीम कोर्ट ने किया धारा 497 को रद्द, अब आप दुसरे की पत्नी के साथ बना सकते है सम्बन्ध

अगर जम्मू एंड कश्मीर की कौशकॉन्स्टिट्यूट असेंबली यानी संविधान सभा इंडिया के राष्ट्रपति को रिकमेंड कर दे और राष्ट्रपति एक ऑर्डर जारी कर दें कि आर्टिकल 370 खत्म कर दिया गया है तभी आर्टिकल 370 खत्म हो सकता है| इसके अलावा कोई और तरीका नहीं है | अक्टूबर 2015 में जम्मू और कश्मीर के हाई कोर्ट ने यह आर्डर जारी किया कि आर्टिकल 370 को रिमूव नहीं किया जा सकता है ना ही उसको रिप्लेस किया जा सकता है यहां तक कि उसमें कुछ चेंजस भी नहीं किए जा सकतें हैं | जिसमें जम्मू एंड कश्मीर हाई कोर्ट ने इसी आर्टिकल 370 सब आर्टिकल 3 का हवाला दिया जिसमें कहा गया है कि जम्मू और कश्मीर की कौशकॉन्स्टिट्यूट असेंबली की रिकमेंडेशन जरूरी है आर्टिकल 370 को हटाने के लिए |

पॉलिटिकल पार्टी

पॉलिटिकल पार्टी इस प्रकार से गुमराह करती है लोगों को

जम्मू और कश्मीर हाई कोर्ट ने कहा कि Kaushik Konstantin Assemblies में कोई रिकमेंडेशन राष्ट्रपति को दी ही नहीं है इसीलिए आर्टिकल 370 को नहीं हटाया जा सकता है|  लेकिन आर्टिकल 370 को हटाने से पहले जम्मू और कश्मीर में Indian law का लागू होना बहुत जरूरी है | पहले जम्मू और कश्मीर में सुप्रीम कोर्ट के फैसले, सुप्रीम कोर्ट के आर्डर भी वैलिड नहीं होते थे| लेकिन राष्ट्रपति ने एक नोटिफिकेशन जारी किया और उसके बाद से वहां पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले ऑर्डर माने जाने लगे हैं तो इसी तरह से धीरे धीरे वहां पर काफी सारे कानून लागू किए गए हैं, तो आगे भी पहले यही किया जाना चाहिए कि जो इंडियन कानून है सबसे पहले जम्मू और कश्मीर में वह लागू होने चाहिए, उसी के बाद कोई बड़ा फैसला लेने के बारे में सोचा जाना चाहिए |

इंटरनेट पर 1 सेकंड में क्या होता है? सच्चाई जानकर आपके होश उड़ जायेगे

दोस्तों अब आप समझ गये होगे की आर्टिकल 370 को आसानी से क्यों नही हटाया जा सकता है |

दोस्तों आर्टिकल लिखने के लिए मुझे काफी मेहनत करनी पड़ती है और मेरा काफी समय लग जाता है इसलिए में आपसे एक लाइक, शेयर और कमेंट की उम्मीद करता हूँ… धन्यवाद

Connect With Us on Facebook | Follow us on Instagram | Join WhatsApp Group