जिसे हम रोज पीते हैं उस चाय के बारे में यह जानकर आप हैरान रह जाएंगे!

हेलो दोस्तो मेरा नाम अनिल पायल है, चाय पीने का इतिहास 750 ईशा पूर्व का है. आम तौर पर भारत में चाय उत्तर पूर्वी भागों और नीलगिरी की पहाड़ियों में उगाई जाती है| आज भारत दुनिया में चाय का सबसे बड़ा उत्पादक है जिसमें से 70% चाय की खपत खुद भारत में ही हो जाती है. क्या आप जानते हैं कि हजारों साल पहले भारत में बौद्ध भिक्षुओं ने चाय का इस्तेमाल औषधीय कार्यों के लिए किया था| इसके पीछे एक बहुत ही दिलचस्प कहानी है दरअसल भारत में चाय पीने की परंपरा 2000 साल पहले एक बौद्ध भिक्षु के साथ शुरू की थी. बाद में यह बोध भिक्षु जैन धर्म के संस्थापक बने और इन्होंने 7 साल की नींद को त्याग कर जीवन के सत्य को जाना और बुद्ध की शिक्षाओं पर विचार करने का फैसला किया|

यह बौद्ध भिक्षु तपस्या के पांचवें साल में था तो उन्होंने झाड़ियों में से कुछ पत्ते लिए और उन्हें चबाना शुरू कर दिया. इन पत्तियों ने उन्हें पुनर्जीवित रखा और उन्हें जागते रहने के लिए सक्षम बनाया| जब भी उन्हें नींद महसूस होती थी वह इस एक ही प्रक्रिया को दोहराते थे इस तरह वे 7 साल तक चली अपनी तपस्या को पूरा करने में सफल रहे और आश्चर्यजनक बात यह है कि यह कुछ और नहीं बल्कि जंगली चाय के पौधे की पत्तियां थी| इस तरह से चाय भारत में प्रचलित हो गई और स्थानीय लोगों ने जंगली चाय के पौधों की पत्तियों को चबाना शुरू कर दिया लेकिन भारत में चाय का उत्पादन भारत के उत्तर पूर्वी भाग में ईस्ट इंडिया कंपनी ने शुरू किया था और 19वीं सदी के अंत में असम में चाय की खेती का पदभार संभालने के लिए चाय का पहला बागान भी ईस्ट इंडिया कंपनी के द्वारा ही शुरू किया गया था. Amazing information about tea

भूखे पेट रेलवे स्टेशन पर सोने वाला लड़का बना 1600 करोड़ का मालिक

Amazing information about tea

इससे पहले 16वीं सदी में भी यह देखा गया कि भारत में लोग चाय का उपयोग सब्जी पकाने में भी कर रहे थे जिसे लहसुन, तेल और चाय की पत्तियों को मिलाकर या फिर उबली हुई चाय की पत्तियों से एक पे तैयार करने के लिए भी इसे इस्तेमाल में लाया जाता था| 1823 और 1831 में ईस्ट इंडिया कंपनी के एक कर्मचारी रॉबर्ट ब्रूस और उसके भाई चार्ल्स ने यह पुष्टि की थी कि चाय का पौधा वास्तव में असम क्षेत्र के बाग में पैदा होता है और उसके बाद कोलकाता में नव स्थापित गुडलिविंग गार्डन के अधिकारियों को इसके बीज और पौधों का नमूना भेजा गया लेकिन ईस्ट इंडिया कंपनी के पास चीन के साथ चाय का व्यापार करने का अधिकार था इसलिए उन्होंने चाय उगाने की प्रक्रिया को शुरू नहीं किया और समय तथा पैसा बर्बाद नहीं करने का फैसला किया|

टेलीफोन का आविष्कार कैसे और कब हुआ था? रोचक जानकारी

Image result for चाय के बागान

लेकिन जब कंपनी ने अपने एकाधिकार को खो दिया तो फिर से एक समिति का गठन किया गया इसमें चार्ल्स को चाय की पैदावार को बढ़ाने का काम दिया गया और पहली नर्सरी स्थापित करने के बाद चीन से 80000 चाय की बीज एकत्र करने के लिए कहा गया. साथ में यह भी सुनिश्चित करने के लिए कहा गया कि भारत में चाय की कृषि संभव भी है या नहीं| अंत में यह भी उसी गार्डन में लगाए गए. इस बीच असम में मौजूदा चाय के पेड़ों की छंटाई कर नए विकास को प्रोत्साहित करने के लिए बागवानों को तैयार किया और देसी झाड़ियों की पत्तियों के साथ प्रयोग करके काली चाय का निर्माण करने का साहस किया| उन्होंने चीन से दो चाय निर्माताओं की भर्ती की और उनकी मदद से तेजी से सफल चाय के उत्पादन के रहस्यों को भी सिखा| इसके अलावा 19वीं सदी में एक अंग्रेज ने यह गोर किया कि असम के लोग एक काला तरल पदार्थ पीते हैं जो कि एक स्थानीय जंगली पौधे से पीसकर बनाया जाता है और इस तरह से चाय एक क्षेत्र से दूसरे क्षेत्र में प्रचलित होते गए और अब पूरी दुनिया में आम आदमी का एक पसंदीदा पेय पदार्थ बन गया है. Amazing information about tea

Image result for चाय के बागान

चाय भारत में दार्जिलिंग, असम, कांगड़ा, नीलगिरी, अन्नामलाई, कर्नाटक, मुन्नार, त्रावणकोर, व्हायनाडा आदि स्थानों पर उगाई जाती है| दुनिया में चाय की प्रमुख तीन किसमें है- इंडियन चाय, चाइना की चाय और हाइब्रिड| इन्ही चाय की किस्मो से चाय के विभिन्न प्रकार जैसे ग्रीन टी, वाइट टी और हर्बल टी जैसी चाय उत्पादित होती हैं| कमाल की बात यह है कि भारत चाय का इस्तेमाल स्वास्थ्य के गोलियों को बनाने के लिए भी कर रहा है|

क्या एक लड़के और लड़की का होटल के कमरे में संभोग करना कानूनन अपराध है?

दोस्तों उमीद करता हु आप चाय के बारे में काफी कुछ जन गये होगे. आप कितनी और कोनसी चाय पीते है हमे कमेंट में जरुर बताये..

Connect with us on facebook

वजन घटाने के दुनिया के 10 सबसे आसान तरीके

हेलो दोस्तो मेरा नाम अनिल पायल है, आज मैं आपको शरीर में मौजूद फालतू के फेट या वजन को कम करने के 10 सबसे आसान तरीके बताने वाला हूं…

10 Easiest Ways to Lose Weight

10. खूब पानी पिएं : “जल ही जीवन है” यह कहावत तो आपने बहुत बार सुनी होगी इसका हमारे जिंदगी में बहुत ज्यादा महत्व है. एक बार शांत मन से ध्यान से सोचिए कि आप दिन में कितना पानी पीते हैं आमतौर पर आप तीन से चार बार पानी पीते होंगे| यह हमारी एक बहुत बड़ी कमी है कि हम बहुत कम पानी पीते हैं .अगर हम कम पानी पियेगे तो हमारे गुर्दे सही से काम नहीं कर पाएंगे और हमारे शरीर से  फैट को बाहर निकालने के लिए उन्हें अधिक कार्य करना पड़ेगा | शरीर के लिवर के द्वारा वह अवशोषित कर लिए जाते हैं जो कि फैट के रूप में जाने जाते हैं. पानी हमारे शरीर का तापमान स्थिर रहता है, पाचन शक्ति को बढ़ाता है, त्वचा को नमी प्रदान करता है और हमें कार्य करने के लिए ऊर्जा देता है| इनके साथ साथ पानी पीने से थकान में राहत प्राप्त होती है| दोस्तों आपको याद रखना चाहिए कि दिन में कम से कम 10 गिलास पानी जरूर पीने है. अगर लीटर में कहें तो आपको 3 से 4 लीटर पानी जरूर पीना चाहिए और रात को सोते समय पानी कम पिए. 10 Easiest Ways to Lose Weight

भूखे पेट रेलवे स्टेशन पर सोने वाला लड़का बना 1600 करोड़ का मालिक

Related image

9. डाइटिंग और बाहरी वस्तुओं से परहेज : जैसे ही वजन कम करने या फैट को खत्म करने की बात आती है तो सबसे पहले हमारे दिमाग में डाइटिंग का नाम आता है और इसके अलावा कुछ ऐसे प्रोडक्ट जो हम रोजाना टीवी पर, इंटरनेट पर  या अलग अलग विज्ञापनों में देखते हैं और ये दावा भी करते हैं की यह चीजें वजन घटाने का कार्य करती हैं| आप यकीन मानिए किसी भी काम के लिए कोई भी शॉर्टकट नहीं होता है. अगर बाई चांस आप कभी किसी शॉर्टकट को यूज करके पतले हो भी जाते हैं तो आपके शरीर में कुछ अन्य बीमारियां जगह बना लेते हैं जिनके साइड इफेक्ट बहुत खतरनाक होते हैं| अगर बात डाइटिंग की करें तो इससे आपके शरीर का फैट खत्म नहीं होगा बल्कि आपका शरीर कमजोर होने लगेगा और जब आप डायटिंग को बंद करेंगे तो वापस वह अपने उसी सेप में आ जाएगा. 10 Easiest Ways to Lose Weight

8. सो कर करें मोटापा कम : आप सोच रहे होंगे कि सोने से मोटापा कम कैसे होगा? सोने से तो सिर्फ शरीर को आराम मिलता है लेकिन 7 से 8 घंटा सोना मोटापा कम करने में भी मदद करता है| 7 से 8 घंटे की नींद एक स्वस्थ व्यक्ति के लिए बहुत अच्छी होती है. इससे आप ज्यादा कैलोरी युक्त भोजन खाने से बचे रहते हैं और ज्यादा मोटापा नहीं आता है. अच्छी नींद के साथ-साथ आपको 30 मिनट की एक्सरसाइज और हेल्दी खाना खाने से आप अपनी कमर को पतला कर सकते हैं. अमेरिका की एक रिपोर्ट के मुताबिक शरीर में बनने वाला मेलाटोनिन हार्मोन नींद लाने में मदद करता है और अच्छी नींद वजन घटाने में सहायक होती है|

इस इंसान को कहा जाता है दुनिया का सबसे मजबूत इंसान!

Image result for ग्रीन टी
7. ग्रीन टी : चाय से हमारे दिन की शुरुआत होती है हमें रोजमर्रा की दूध और चीनी की चाय से परहेज करना चाहिए क्योंकि यह हमारे शरीर में फैट को बढ़ाने का काम करती है. इसकी जगह आपको हरी चाय यानि की ग्रीन टी पीनी चाहिए जो कि सेहत के लिए फायदेमंद होती है और उसे पीने से आपका फेट धिरे-धिरे कम होने लगेगा| दूध वाली चाय की जगह हर रोज ग्रीन टी पीना पाचन शक्ति को ठीक करता है. ग्रीन टी पीने से आप शरीर में फुर्ती महसूस करते हैं. वजन घटाने के लिए हरी चाय पीना अधिक फायदेमंद है क्योंकि हरी चाय में मौजूद एंटी ऑक्सीडेंट वजन कम करने में सहायक होता है| आपको दिन में कम से कम 2 बार हरी चाय का सेवन करना चाहिए|

10 Easiest Ways to Lose Weight
6. जिम : अगर आप थोड़ा बहुत पैसा खर्च कर सकते हैं तो आप एक होम जीम खोल सकते हैं. जिसमें आप रोजाना वर्कआउट कर सकते हैं और अगर आप यह नहीं करना चाहते तो भी कोई चिंता की बात नहीं है क्योंकि जिम के कुछ ऐसे उपकरण हैं जो आप अपने घर में ही उपलब्ध करवा सकते हैं| आप घर में किसी रस्सी का प्रयोग कूदने के लिए कर सकते हैं और घर पर ही आप जिम में होने वाली बहुत सारी एक्सरसाइज आराम से कर सकते हैं|

Image result for खूब खाना खाएं
5. खूब खाना खाएं : आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि आप समय पर और अच्छे से भरपूर खाना खाएं और आपको नाश्ता तो बिल्कुल भी नहीं छोड़ना चाहिए| आमतौर पर लोग नाश्ता नहीं करते हैं क्योंकि हमें नाश्ता करने के लिए टाइम ही नहीं मिलता है. अगर डॉक्टर्स की मानें तो नाश्ता वजन घटाने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है आप चाहें तो कभी-कभी डिनर को स्कीप कर सकते हैं लेकिन नाश्ते को कभी भी ना छोड़े| लेकिन आपको एक बात याद रखना चाहिए कि आपको एक बार में ज्यादा नाश्ता नहीं करना है आंखों थोड़ा थोड़ा करके बार बार खाना है|

टेलीफोन का आविष्कार कैसे और कब हुआ था? रोचक जानकारी

Related image
4. मनपसंद खाना : आप 2 हफ्ते में एक बार अपनी मनपसंद खाना खा सकते हैं. अगर आप रोजाना एक्सरसाइज करते हैं और प्राकृतिक भोजन लेते हैं तो आपको कभी कभी चीट मिल खा लेना चाहिए| क्योंकि यह उस समय आपकी सेहत के लिए अच्छा साबित होता है. क्योंकि रोजाना एक तरह का खाना खाकर और एक्सरसाइज करके शरीर उसकी आदत बना लेता है और धीरे-धीरे उस चीज का असर कम होने लगता है और अगर आप हफ्ते में या 2 हफ्ते में एक बार चीट खाना खाते हैं तो इससे आपकी आदत में बदलाव आएगा|

10 Easiest Ways to Lose Weight
3. योगा : योगा हमारे पूर्वजों की देन है, जिसे प्राचीन समय में ऋषि मुनि तथा आममानस उपयोग में लाया करते थे. योगा आज के समय में पूरे विश्व में प्रसिद्ध है और अपने आप को फिट रखने का सबसे कारगर तरीका भी है| योगा सिर्फ आपके शरीर को नहीं बल्कि आपके मन को भी शांत रखता है. यह तन और मन के बीच संतुलन बनाए रखता है, हमारी प्राचीन संस्कृति में कई लाभदायक योगासन बताए गए हैं इसके नित्य प्रयोग से शरीर स्वस्थ और आकर्षक बनता है और इन योग क्रियाओं से शरीर का वजन भी कम किया जा सकता है| संतुलित आहार और योगासन की मदद से आप अपना जीवन एक नई ऊर्जा से भर सकते हैं. योग के अंतर्गत कुछ प्राणायाम और कुछ आसन आते हैं जैसे कपालभाति प्राणायाम, अनुलोम विलोम प्राणायाम, नौकासन, ताड़ासन आदि इनमें से सूर्य नमस्कार सबसे श्रेष्ठ माना गया है.10 Easiest Ways to Lose Weight

क्या एक लड़के और लड़की का होटल के कमरे में संभोग करना कानूनन अपराध है?

Image result for नींबू पानी
2. नींबू पानी : यह तो आपने सुना ही होगा कि एक नींबू रोजाना मतलब फैट फ्री शरीर| यह बात बिल्कुल सही है, नींबू में कई ऐसे रासायनिक गुण पाए जाते हैं जो आपके शरीर में जाकर फैट को खत्म करने का कार्य करते हैं यह ना सिर्फ फेट को कम करता है बल्कि आपकी त्वचा के लिए भी बहुत लाभकारी है| इसका सेवन आप सुबह खाली पेट गरम या फिर गुनगुने पानी के साथ कर सकते हैं तथा शाम को 6:00 से 7:00 के बीच में इसे लेना चाहिए | इसमें आपको एक बात का खास ख्याल रखना है की बहुत सारे ऐसे लोग होते हैं जिन्हें नींबू से एलर्जी होती है या फिर किसी बीमारी की वजह से डॉक्टर ने इसका सेवन करने से मना कर रखा हो तो वह लोग इसका सेवन बिल्कुल भी ना करें|

Image result for एक्सरसाइज
1. एक्सरसाइज : सबसे महत्वपूर्ण और सबसे कारगर उपाय यही है कि आप रोजाना एक्सरसाइज या कसरत करने का रूटीन बना ले| शुरुआत में आपको इसमें काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा आप समय पर एक्सरसाइज के लिए तैयार नहीं होंगे, आपके शरीर को इसकी आदत नहीं है इससे आपको थोड़ी तकलीफ महसूस हो सकती है लेकिन आप यकीन मानिए कि अगर आप 10 से 15 दिन लगातार सुबह उठकर एक्सरसाइज करेंगे तो उसके बाद खुद ही आपका मन एक्सरसाइज करने के लिए करने लगेगा| ध्यान रखना एक्सरसाइज करने से पहले आपको आपके शरीर को थोड़ा रिलैक्स कर लेना चाहिए यानी कि थोड़ी हल्की फुल्की एक्सरसाइज जिससे आपके मसल्स में चोट लगने का खतरा कम हो जाता है और आपका शरीर गर्म भी हो जाता है|

होटल और रेस्टोरेंट के यह कड़वे सच जानकर आपके होश उड़ जाएंगे!

दोस्तों आप अपने आप को फिट रखने के लिए इनमें से कौन से तरीके का इस्तेमाल करते हैं हमें कमेंट में जरूर बताइए…

Connect with us on facebook

दुनिया के सात अजूबों के बारे में जानकर आप हैरान हो जाएंगे

हेलो दोस्तो मेरा नाम अनिल पायल है, दुनिया के सात अजूबे प्राकृतिक और मानव निर्मित संरचनाओं का संकलन है जो अपनी अद्भुत कला, संरचना और खूबसूरती से मनुष्य को आश्चर्यचकित करती हैं. प्राचीन काल से वर्तमान काल तक दुनिया के अजूबों की ऐसी कई विभिन्न सूचियां तैयार की गई हैं. लगभग 2200 साल पहले यूनान के विद्वानों ने दुनिया के सात अजूबों की सूची तैयार की थी और यही सात अजूबे लगभग 2100 सालों तक दुनिया में प्रचलित रहे थे लेकिन 1999 में इसमें बदलाव करने की बात चली क्योंकि पुराने अजूबों में अधिकांश टूट-फूट चुके थे|

टेलीफोन का आविष्कार कैसे और कब हुआ था? रोचक जानकारी

seven Wonders of World

2007 में पुर्तगाल की राजधानी लिस्बन में दुनिया के सात अजूबों के नामों की घोषणा की गई. दुनिया के सात अजूबों में गीजा के पिरामिड, बेबीलोन के झूलते बाग, ओलंपिया में जूस की मूर्ति, आर्टेमिस का मंदिर, माउस लॉसेस का मकबरा, रोड्स की विशाल मूर्ति और अलेक्जेंड्रिया के रोशनी घर शामिल थे| वर्तमान में गीजा के पिरामिड के अलावा अन्य सभी अजूबे ध्वस्त हो चुके हैं. तो आज मैं आपको दुनिया के सात नये अजूबों के बारे में बताने वाला हूं. seven Wonders of World

क्या एक लड़के और लड़की का होटल के कमरे में संभोग करना कानूनन अपराध है?

Image result for Great Wall of China

1. चीन की दीवार : चीन की उत्तरी सीमा पर बनाई गई यह दीवार दुनिया की सबसे लंबी मानव निर्मित संरचना है. यह करीब 6500 किलोमीटर लंबी है और इसकी ऊंचाई 35 फिट है| यह दीवार चीन को सुरक्षा देती है. इस दीवार का निर्माण पांचवी सदी ईसा पूर्व में शुरू हुआ और शॉलवी सदी तक जारी रहा|

seven Wonders of World

2. जॉर्डन का पेट्रा : पश्चिमी एशिया के जॉर्डन में स्थित है पेट्रा एक ऐतिहासिक शहर है. यह लाल बलुआ पत्थरों से बनी इमारतों के लिए प्रसिद्ध है. यहां मौजूद इमारतों में 138 फुट ऊंचा मंदिर, ओपन स्टेडियम, नहर, तालाब आदि शामिल है| यहां की इमारतों की दीवारों पर पर हुई नकाशी बेहद खूबसूरत है|

राजस्थान के बारे में ये बातें आप बिल्कुल भी नहीं जानते होंगे

seven Wonders of World

3. Christ The Redeemer, Brazil : ब्राजील के रियो द जनरो में कारको बेडओं पर्वत की चोटी पर जीसस क्राइस्ट की क्राइस्ट द रिडीमर नाम की मूर्ति स्थित है| करीब 32 मीटर ऊंची इस स्टेचू का वजन 700 टन है. इसका निर्माण 1922 से 1931 के बीच किया गया था|

Image result for ताजमहल

4. ताजमहल: मुगल बादशाह शाहजहां ने अपनी बेगम मुमताज की याद में ताजमहल का निर्माण कराया था. बेपनाह मोहब्बत की निशानी ताजमहल को बनकर तैयार होने में करीब 20 साल का वक्त लगा| ताजमहल को मुगल शिल्प कला का उत्कृष्ट उदाहरण माना जाता है|

दुनिया की सबसे महंगी और कीमती चीज की कीमत जानकर आपके होश उड़ जाएंगे

seven Wonders of World

5. रोम का कोलोसियम : यह एक विशाल स्टेडियम है. इसका निर्माण 17 वी सदी में सम्राट वेस्पेशियन ने शुरू करवाया था| कहां जाता है कि इस स्टेडियम में 50000 लोग जंगली जानवरों और गुलामों के बीच में लड़ाई का खेल देखते थे. इस स्टेडियम की वास्तुकला ऐसी है कि इसकी नकल करना संभव नहीं है|

seven Wonders of World

6. Chichen itza , Mexico : मेक्सिको में स्थित चीचेन इट्ज़ा माया सभ्यता के सबसे प्राचीन शहरों में से एक है. यहां को पुलकौन का पिरामिड, सांप मूल के मंदिर, 1000 पिलरो का होल और कैदियों के लिए बनाए गए खेल के मैदान आज भी देखे जा सकते हैं| यहां गोकुल कुंड का पिरामिड स्थित है जो 79 फीट ऊंचा है जिसके चारों दिशाओं में 91 सीडिया है. इसकी एक सीडी साल के 1 दिन का प्रतीक है. इस पिरामिड के ऊपर बना चबूतरा साल के 365 वे दिन का प्रतीक है. seven Wonders of World

दुनिया के सबसे अमीर परिवार, पढ़कर दिमाग हिल जायेगा

Image result for Machu Picchu, Peru
7. Machu Picchu, Peru : दक्षिण अमेरिकी देश पेरू में जमीन से 2400 फीट की ऊंचाई पर माचू पिच्छू नान का शहर है. यह 15 वीं शताब्दी में बताया गया था. एंडीज पर्वतों के बीच यह शहर इंका सभ्यता का शहर है, माना जाता है कि पहले यह नगर संपन्न हुआ करता था पर बाद में स्पेन के आक्रमणकारी अपने साथी यहां चेचक जैसी बीमारियां लेकर आए जिसे धीरे धीरे यह शहर पूरी तरह से तबाह हो गया|

डीएनए क्या होता है और यह इतना महत्वपूर्ण क्यों है

दोस्तों आपको इनमे से कोनसा अजूबा सबसे ज्यादा पसंद या न पसंद है हमे कमेंट में जरुर बताये …. और क्या आपको कोई एसी चीज के बारे में पता है जिसे इन अजूबो में सामिल किया जा सके? 

Connect with us on Facebook

भूखे पेट रेलवे स्टेशन पर सोने वाला लड़का बना 1600 करोड़ का मालिक

हेलो दोस्तो मेरा नाम अनिल पायल है, आज मैं आपको एक ऐसी मोटिवेशनल स्टोरी बताने वाला हूं जिसे पढ़कर आप में एक जबरदस्त उत्साह आ जाएगा| आज की कहानी एक ऐसे व्यक्ति की है जिसने यह साबित कर दिया की ऊंचाइयों तक पहुंचने के लिए सिर्फ एक बड़ी सोच, उद्देश्य पूर्ति के लिए पक्का इरादा और कभी ना हार मानने वाले जज्बे की जरूरत होती है| मुसीबतें हमारे जीवन की एक सच्चाई हैं, कोई इस बात को समझ लेता है तो कोई पूरी जिंदगी इसका रोना रोता रहता है| जिंदगी के हर मोड़ पर हमारा सामना मुसीबतों से होता है, मुसीबतों के बिना जिंदगी की कल्पना भी नहीं की जा सकती है|

आज की यह कहानी एक ऐसे शख्स के बारे में है जिसके पास दोस्तों के द्वारा दिए गए मुंबई जाकर काम ढूंढने के सुझाव के अलावा कुछ नहीं था| जेब में बिना कोई पैसे के खाली पेट रहना और मुंबई के दादर स्टेशन पर सोने से ज्यादा तकलीफ दे अपने पिता और भाई के मौत के सदमे से बहार आना था| इतनी मुसीबतें एक इंसान पर एक साथ बहुत कम बार आते हैं. ऐसी परिस्थितियों से बाहर आकर आज सुदीप दत्ता ने जो सफलता हासिल की है वह आज के युवाओं के लिए बहुत ज्यादा प्रणा स्रोत है. sudip dutta ess dee 

Image result for Sudip Dutta

यह कहानी उन लोगों को जरूर पढ़नी चाहिए जो परिस्थितियों को दोष देकर हार मान कर बैठ जाते हैं. पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर से संबंध रखने वाले इस बच्चे के पिता आर्मी में थे| 1971 की जंग में गोलियां लगने के बाद वह अपाहिज हो गए थे और ऐसी स्थिति में बड़ा भाई ही परिवार के लिए एक उम्मीद की किरण था| लेकिन आर्थिक तंगी के चलते परिवार बड़े भाई का इलाज नहीं करवा सका और उसकी भी मौत हो गई और उनके पिता भी अपने बड़े बेटे की मौत के सदमे में चल बसे| उसकी मां उस बच्चे के लिए भावनात्मक सहारा जरूर थी लेकिन उसके ऊपर चार भाई-बहनों की जितनी बड़ी जिम्मेदारी दी थी|

टेलीफोन का आविष्कार कैसे और कब हुआ था? रोचक जानकारी

sudip dutta ess dee

अपने परिवार की जिम्मेदारी अब उसके ऊपर थी. उसके बाद दोस्तों के द्वारा दिया गया सुझाव तब सही साबित हुआ जब उसने ₹15 की मजदूरी का काम, सोने के लिए एक जगह मिली| सोने की जगह एक ऐसी कमरे में थी जहां पर 20 मजदूर और सोते थे. कमरा इतना छोटा था कि सोते वक्त हिलने की भी जगह नहीं होती थी| 2 साल की मजदूरी के बाद उसके जीवन में नया मोड़ तब आया जब नुकसान के चलते उसके मालिक ने फैक्ट्री बंद करने का फैसला किया, ऐसी कठिन परिस्थिति में नई नौकरी ढूंढने के बजाय इस लड़के ने फैक्ट्री को चलाने का फैसला किया| 1975 से अब तक की बचाई पूंजी और दोस्तों से उधार लेकर ₹16000 इकट्ठे कर लिए| फैक्ट्री खरीदने के लिए ₹16000 बहुत कम थे लेकिन सुदीप दत्ता ने फैक्ट्री मालिक के साथ 2 साल का मुनाफा बांटने का वादा करके किसी तरह फैक्ट्री मालिक को मना लिया|

क्या एक लड़के और लड़की का होटल के कमरे में संभोग करना कानूनन अपराध है?

Image result for Sudip Dutta

सुदीप उसी फैक्ट्री का मालिक बन चुका था जहां कल तक वह सिर्फ एक मजदूर था| 19 साल का सुदीप जिसके लिए खुद का पेट भरने की चुनौती थी उसने 7 अन्य मजदूरों के परिवार को चलाने की जिम्मेदारी ले ली थी| एल्युमीनियम पैकेजिंग इंडस्ट्री उस समय अपने बुरे दौर से गुजर रही थी| जिंदल और अमोनियम जैसी कुछ गिनी चुनी कंपनी अपनी आर्थिक मजबूती के आधार पर मुनाफा कमा रही थी| सुदीप यह जान गए थे कि बेहतर उत्पाद और नयापन ही उन्हें दूसरों से बेहतर साबित कर सकता है लेकिन अच्छा विकल्प होने के बावजूद जिंदल जैसी बड़ी कंपनी के सामने टिक पाना आसान बात नहीं थी| सुदीप ने वर्षों तक बड़े ग्राहकों को अपने उत्पादों की गुणवत्ता के बारे में समझाना जारी रखा और साथ ही छोटी कंपनियों के ऑर्डर के सहारे अपना बिजनेस चलाते रहे|

sudip dutta ess dee

उनकी मेहनत तब रंग लाई जब उन्हें सन फार्मा, सिप्ला और नेसले जैसी बड़ी कंपनियों ऑर्डर मिलने शुरू हो गए. सुदीप ने सफलता का स्वाद चखा ही था लेकिन उन्हें आने वाली चुनौतियों का बिल्कुल अंदेशा नहीं था| उद्योग जगत के महारथी अनिल अग्रवाल ने एक बंद पड़ी कंपनी खरीद कर इस क्षेत्र में कदम रखा| अनिल अग्रवाल और उनका वेदांता ग्रुप विश्व की चुनिंदा बड़ी कंपनियों में से एक रहे हैं और उनके सामने टिक पाना बिल्कुल नामुमकिन लग रहा था लेकिन विदेशी कंपनी से प्रभावित न होकर सुदीप दत्ता ने अपने उत्पादों को बेहतर बनाना जारी रखा और आखिरकार वेदांत समूह को सुदीप्ता के आगे झुकना पड़ा और इंडिया फुल कंपनी को सुदीप को बेचना पड़ा|

दुनिया की सबसे महंगी और कीमती चीज की कीमत जानकर आपके होश उड़ जाएंगे

Image result for Sudip Dutta company

इसके बाद वेदांत समूह पैकेजिंग इंडस्ट्री से हमेशा के लिए बाहर हो गया था. इस उपलब्धि के बाद सुदीप ने अपनी कंपनी को तेजी से आगे बढ़ाया और फार्मा कंपनियों के बीच अपनी एक पहचान बनाई| 1998 से 2000 तक उन्होंने 20 प्रोडक्शन यूनिट स्थापित कर दिए थे. आज सुदीप की कंपनी ESS DEE ALUMINIUM अपने क्षेत्र की नंबर वन कंपनी है और साथ ही मुंबई स्टॉक एक्सचेंज और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज की सूची में भी शामिल है| अपनी अभिनव सोच के कारण उन्होंने पैकेजिंग इंडस्ट्री का नारायण मूर्ति भी कहा जाता है| आज सुदीप दत्ता की कंपनी एसडी एलमुनियम का मार्केट कैप 1600 करोड रुपए से ज्यादा है| जीवन में बहुत कुछ हासिल करने के बाद भी सुदीप अपनी पृष्ठभूमि से जुड़े हैं. उनकी फैक्ट्री के सारे मजदूर आज भी उन्हें दादा कहकर बुलाते हैं|

Image result for ESS DEE Sudeep Data

उन्होंने गरीबों और जरूरतमंदों की सहायता के लिए सुदीप दता फाउंडेशन की स्थापना की| यह ग्रामीण क्षेत्र के बेरोजगार युवाओं के लिए समय-समय पर नए-नए अवसर प्रदान करता है. दोस्तों अक्सर देखा जाता है कि हम लोग अपने दुखों के लिए हमेशा आंसू बहाते रहते हैं और अपनी कमियों को ही नसीब मानकर जीवन गुजार देते हैं लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जो अपनी कमियों को अपना नसीब नहीं बनाते हैं बल्कि अपनी मेहनत से अपनी किस्मत खुद लिखते हैं|

डीएनए क्या होता है और यह इतना महत्वपूर्ण क्यों है

दोस्तों आपको सुदीप दत्ता की यह सच्ची कहानी कैसी लगी… क्या आपको इससे कोई शिक्षा मिलती है?

Connect with us on Fcebook

इस इंसान को कहा जाता है दुनिया का सबसे मजबूत इंसान!

हेलो दोस्तों मेरा नाम अनिल पायल है, आज मैं आपको दुनिया के सबसे मजबूत या ताकतवर इंसान के बारे में बताने वाला हूं. दोस्तों आपने अपने जीवन में बहुत सारे हैरतअंगेज कारनामे देखे होंगे और जिन्हें देखकर आपने अफसोस भी किया होगा कि ऐसा कैसे हो सकता है. आज मैं आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहा हूं जिसकी ताकत का लोहा पूरी दुनिया ने माना है. मैं बात कर रहा हूं Frank “Cannonball” Richards की|

Frank "Cannonball" Richards

रिचर्ड्स का दावा था कि वह अपने पेट पर दुनिया में किसी भी व्यक्ति से ज्यादा मार झेल सकते हैं. रिचर्ड्स ने 1920 में अपने पेट पर मुक्के मारने की एक अजीब प्रतियोगिता रखी.. वह अपने दोस्तों को अपने पेट पर पूरी ताकत से मुक्के मारने को कहते थे पर इस मार से उन्हें कोई भी दर्द या तकलीफ नहीं होती थी| रिचर्ड्स अपने लोहे जैसे पेट की ताकत को परखने के लिए किसी भी हद तक जाने को तैयार थे. World’s strongest man

दुनिया की सबसे महंगी और कीमती चीज की कीमत जानकर आपके होश उड़ जाएंगे

Related image

वह पास में खड़े दर्शकों को भी अपने पेट पर कूदने का निमंत्रण देते थे. दर्शक एक-एक करके उनके पेट पर कुद्द्ते जाते हैं पर उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता था. साथ ही रिचर्ड्स अपने पेट पर हथौड़े भी वार करवाते थे इसके अलावा उन्होंने उस समय के एक अमेरिकन बॉक्सर जेस विलार्ड को अपना बेस्ट नॉकआउट पंच अपने पेट पर मारने को कहा लेकिन रिचर्ड्स उनके एक दो नहीं बल्कि पूरे 3 नॉक आउट पंचों को अपने पेट पर आसानी से झेल गए और उन्हें इसे कोई भी तकलीफ नहीं हुई|

World's strongest man

आखिरकार उन्होंने उस कारनामे को अंजाम दिया जिसके लिए रिचर्ड्स को आज भी याद किया जाता है. इस हैरतअंगेज कारनामे में रिचर्ड्स एक 104 पाउंड यानि की 47 किलो के तोप के गोले को अपने पेट पर झेलने वाले थे. हालांकि इसका उन्हें कोई अनुभव नहीं था लेकिन उन्हें अपनी ताकत पर भरोसा था इसलिए उन्होंने इसे अपना कैरियर बनाने का निश्चय किया| 

डीएनए क्या होता है और यह इतना महत्वपूर्ण क्यों है

Related image

रिचर्ड्स दर्शकों के सामने तोप के गोले को दिन में दो बार अपने पेट पर झेलते थे. रिचर्ड्स 81 साल की उम्र तक जिए. रिचर्ड्स की मृत्यु के बाद उनकी तोप वाली तस्वीर को वन हेलन 3 नामक एल्बम के कवर पेज पर लगाया गया साथ ही कई टीवी शोस और कार्टून जैसे जैरी सीनफेल्ड और दी सैमसंस में रिचर्ड्स से प्रेरणा ली गई थी. उसने अपने पूरे करियर को काफी इंजॉय किया और वह पूरी मानव जाति के लिए एक प्रेरणा का स्रोत भी बने|

दुनिया के 7 सबसे अमीर बच्चे! इनकी संपत्ति जानकर दिल खुस हो जायेगा

दोस्तों उम्मीद करता हूं आपको आर्टिकल अच्छा लगा होगा अगर आप भी ऐसा कोई कारनामा कर सकते हैं तो हम एक कमेंट में जरूर बताएं…

Connect us on Facebook