6 places of earth where human beings can not even be desired!

पृथ्वी की 6 ऐसी जगह जहां इंसान चाहकर भी नही जा सकता!

Articles EH Blog

हेलो दोस्तों मेरा नाम अनिल पायल है, हमारी पृथ्वी पर हम भी कई ऐसी जगह है जहां पर इंसान ने आज तक कदम नहीं रखा है. कुछ खराब मौसम और हालातों की वजह से और कुछ प्राकृतिक परिस्थितियों की वजह से| आज मैं आपको दुनिया की कुछ ऐसी जगहो के बारे में बताऊंगा जहां इंसान आज तक नहीं पहुंच सका है.

1. Mariana Trench

वेस्टर्न पैसिफिक में पाई जाने वाली मारियाना ट्रेंच नाम की जगह पृथ्वी पर पाई जाने वाली सबसे गहरी जगह है. यह जगह 36000 फीट गहरी है जिसे शैलेंद्र डीप भी कहा जाता है. यह जगह इतनी ज्यादा गहरी है कि इसमें अगर माउंट एवरेस्ट पर्वत को डाल दिया जाए तो उसके पूरे डूब जाने के बावजूद ऊपर एक मिल की जगह और बच जाएगी.

इंसान इस जगह पर गोता लगाकर काफी गहराई तक गया है पर आज तक कोई इसके तल तक नहीं पहुंच पाया है और मारियाना ट्रेंच कि जो गहराई बताई गई है वह सिर्फ एक अंदाजा है यह उससे भी ज्यादा गहरा हो सकता है.

मारियाना ट्रेंच में रहने वाले कुछ एक कोशिकीय जीवो के बारे में पता चला है जो पानी में मिलने वाले मिनरल से जिंदा है पर वैज्ञानिकों का मानना है कि हो सकता है मारियाना ट्रेंच की गहराई में बहुत ही ज्यादा बड़े और खतरनाक जीव भी मौजूद हो.

2. Kamchatka Peninsula

रसिया के Kamchatka पेनिनसुला पर कई सुलगते ज्वालामुखी पाए जाते हैं. यह जगह पृथ्वी पर मौजूद ज्वालामुखी की जगहों में सबसे ज्यादा होश उड़ा देने वाली जगह है. यह जगह 300 से ज्यादा ज्वालामुखियों का घर है जिनमें से एक ज्वालामुखी सन 1996 से लगातार फटता जा रहा है.

इस जगह पर सोवियत यूनियन के पतन के बाद पश्चिमी देशों से आने वाले लोगों के लिए इस जगह को बैन कर दिया गया था पर इस घटना से पहले कुछ इलाकों के ही मिलिट्री लोग जाते थे. वही इस जगह के बहुत बड़े हिस्से पर आज तक कभी इंसान के कदम नहीं पढ़े हैं और ना ही इसकी कोई तस्वीर है.

3.Gangkhar Puensum

यह पहाड़ भले ही माउंट एवरेस्ट जितना बड़ा ना हो पर फिर भी यह 25000 फीट की ऊंचाई को छूता है. यह दुनिया का 40 वें नंबर का सबसे ऊंचा पहाड़ है और दुनिया के पहले स्थान पर आने वाला सबसे ऊंचा पर्वत जिस पर आज तक कोई नहीं चढ़ सका| इस पर चड़ पाने की कोई और वजह नहीं बल्कि इसका राजनीतिक कारण है. यह पहाड़ भूटान के बॉर्डर पर पाया जाता है और भूटान देश के लोगों कुछ धार्मिक कारणों और मान्यताओं की वजह से नहीं चाहते कि कोई इस पर चढ़ाई करें और यह माउंट एवरेस्ट की तरह ही कोई पर्यटन स्थल बन जाए|

इसी वजह से इस पहाड़ पर आज तक कोई इंसान नहीं पहुंच पाया है और उम्मीद है कि आगे भी कोई नहीं पहुंच पाएगा. इस पहाड़ पर चार अलग-अलग टीमों ने चढ़ने की कोशिश की थी. सन 1985 और 86 में उनका अभियान विफल हो गया बहुत ज्यादा खराब मौसम की वजह से| सन 1994 में इस पर्वत पर 6000 फीट से ज्यादा ऊंची चढ़ाई चढ़ने प रभारत सरकार की रोक लगाई गई थी और सन 2003 में इस पर्वत को चढ़ाई के लिए पूरी तरह से बैन कर दिया गया.

4. Northeast Siberia

जब आप रसिया देश का नाम सुनते हैं तो आपके मन में दुनिया के सबसे बड़े देश का नक्शा बन जाता है जिसकी कुल आबादी लगभग 144 मिलियन है. पर यह देश इतना बड़ा है कि इसके कुछ इलाके दुनिया से बिल्कुल अलग थलग कटे हुए हैं. नॉर्थ वेस्ट साइबेरिया ऐसी जगह है जहां पर किसी भी तरह के जीवन का टिक पाना बहुत ही ज्यादा मुश्किल है. इस जगह के आसपास इंसान कभी गया भी है तो वहां पर जमीन के अंदर पाए जाने वाले तेल की वजह से. जो उस जगह प्रेशर पॉइंट के टेंपरेचर से नीचे पाई जाने वाली मिट्टी की परतों के नीचे गड़ा हुआ है. इसको छोड़ कर यह इलाका किसी काम का नहीं है यहां तक कि यहां पर पेड़ पौधे तक पैदा नहीं हो पाते हैं इसलिए यह ऐसी जगह है जहां पर किसी इंसान ने आज तक कदम नहीं रखा है.

1. Son doong cave

Son doong cave दुनिया की सबसे बड़ी गुफा है. यह गुफा वियतनाम में है, यह गुफा 5 किलोमीटर से ज्यादा गहरी है यह गुफा इतनी बड़ी है कि इसमें ऊंची से ऊंची बिल्डिंग समा सकती हैं. यह गुफा इतनी ज्यादा विशाल है इसमें खुद की एक नदी पाई जाती है और खुद का एक जंगल भी मौजूद है. सन 2009 में कुछ खोजकर्ता इस गुफा में खोज के लिए गए थे रास्ते में 200 फीट लंबी केल्साइट दीवार के पार नहीं जा सके. इस गुफा में कुछ कारणों की वजह से आगे नहीं बढ़ पाने की वजह से इस गुफा का बहुत बड़ा हिस्सा इंसानों की नजर और पहुंच से आज भी बचा हुआ है.

2. Namib desert

नामीब रेगिस्तान साउथ अफ्रीका में पाए जाने वाला एक बंजर रेगिस्तान है. यह रेगिस्तान 2000 किलोमीटर में फैला हुआ है जो नामीब के क्षेत्र में आता है. इस जगह पर साल में सिर्फ 2 MM की बारिश होती है जो इसे दुनिया की सबसे सुखी और बंजर जगह साबित करती है. यह रेगिस्तान दुनिया का सबसे पुराना रेगिस्तान है

इस रेगिस्तान के कुछ किनारों पर पाई जाने वाली जगह जो कम सुखी और बंजर है जिस वजह से वहां पर कुछ आदिवासी कबीले के लोग दिखाई दे जाते हैं और कुछ जीव-जंतु भी जो कम से कम पानी से अपना गुजारा चला लेते हैं. पर इस रेगिस्तान का सबसे बड़ा इलाका जो 31000 स्क्वायर मील तक फैला है वह आज भी इंसानों की पहुंच से बाहर है. जहां पर कोई भी इंसान जाने की हिम्मत नहीं करता है क्योंकि वहां पर रेत और मिट्टी के अलावा कुछ भी नहीं है.

3. Star mountains

Star mountains एक विशाल पर्वत श्रंखला है. जिसकी सीमाएं बहुत बड़े क्षेत्र में फैली हैं यह माउंटेन रेंज Papua new guinea नाम की जगह से शुरू होती है जो पापुआ न्यू गिनी के बॉर्डर से लेकर Hindenburg Range तक फैली है. Hindenburg चूने के पत्थरों से बनी मिलो ऊंची एक पत्थरों की दीवार है जिसे हिंडन वर्ग वोल कहते हैं. यह जगह पृथ्वी की सबसे गीली जगहों में से एक मानी जाती है क्योंकि यहां पर हर साल 10000 mm तक बारिश होती है.

इस जगह को आज तक कभी भी पूरी तरह से खोजा नहीं जा सका है ना ही यहां पर आज तक किसी इंसान ने कदम रखा है. यह जगह इतनी बड़ी है कि इसका अपना खुद का इको सिस्टम है जिसमें कई दुर्लभ प्रजाति के जीव जंतु रहते हैं जिनके बारे में कभी कभी किसी को पता नहीं था. एक बायोलॉजिकल सर्वे करने पर 1100 प्रजातियां में से 100 ऐसी जातियां के जीव इस जगह पर पाए गए जो पूरी पृथ्वी पर इस जगह के अलावा और कहीं नहीं मिलते हैं.

4. Greenland

ग्रीनलैंड एक देश होने के बावजूद इस देश के बहुत बड़े हिस्से को आज तक एक्सप्लोरर नहीं किया गया है. इस देश का क्षेत्रफल 800000 स्क्वायर माइल्स में बसा हुआ है जो इसे दुनिया का सबसे बड़ा आयरलैंड बनाता है. इस आइलैंड की पॉपुलेशन सिर्फ 56000 लोगों की है जो इसे दुनिया का सबसे कम आबादी वाला देश घोषित करती है.

6 places of earth where human beings can not even be desired!

इस देश का ज्यादातर हिस्सा रहने लायक नहीं है क्योंकि इसका दो तिहाई हिस्सा बर्फ की चादरों से हमेशा ढका रहता है. कुछ जगह पर तो इन बर्फीली चादरों की परत 3200 मीटर तक मोटी है. और यहां पर पड़ी कुछ इलाकों में जमी हुई बर्फ 4 लाख से 8 लाख साल पुरानी है. इस देश का 80 परसेंट भाग बर्फ से ढका हुआ है. खराब और गंभीर मौसम की वजह से ग्रीनलैंड का बहुत बड़ा हिस्सा आज भी इंसान की पहुंच से दूर है.

5. Siberian Sakha Republic

साइबेरियन शाखा रिपब्लिक रशिया देश के 20% एरिया को अकेले कवर कर लेता है. जिसका ज्यादातर हिस्सा आर्क्टिक सर्कल के ऊपर पड़ता है. यह जगह इंसानों के लिए बिलकुल भी सुविधाजनक नहीं है क्योंकि यहां का टेंप्रेचर माइनस 40 डिग्री तक रहता है. साइबेरिया शाखा रिपब्लिक साइज में लगभग भारत देश जितना बड़ा है पर कठिन परिस्थितियों की वजह से इसका बहुत बड़ा हिस्सा आज भी लुप्त है. ज्यादातर क्षेत्र का हिस्सा पर्माफ्रॉस्ट से ढका हुआ है. पर्माफ्रॉस्ट बर्फ के नीचे जमी हुई मिट्टी को कहते हैं. इसी वजह से यहां की धरती की सतह हैं बर्फ की तरह हमेशा जमी और सख्त रहती है. यहां तक कि खुद बर्फ ना होते हुए भी यह मिट्टी एकदम बर्फ जैसी ठंडी रहती है. इस जगह पर जाकर खोजबीन करना अपनी जान को जोखिम में डालना है.

6 places of earth where human beings can not even be desired!

6. North sentinel island

नॉर्थ सेंटिनल आइसलैंड इस लिस्ट के पहले नंबर पर आता है क्योंकि इस जगह पर कभी भी न जाने की आप को सलाह दी जाएगी. यह द्वीप bay of bengal में पढ़ता है जो सेंटनलीज जनजाति के कबीले वालों का घर है. इस दिव्प पर रहने वाले निवासी बाहरी दुनिया से किसी भी तरह का संपर्क नहीं रखना चाहते और अगर कोशिश भी की जाए तो यह लोग बहुत ज्यादा हिंसक होने लगते हैं. यह द्वीप समय में हजारों साल पीछे चल रहा है जिसका आज के मोर्डन टाइम से कोई लेना देना नहीं है.

हालांकि की यह भारत देश के अधिकार क्षेत्र में आता है. भारतीय सरकार इन कबीलों के लोगों को इनकी इच्छा के अनुसार उनके अपने हाल पर छोड़ दिया है ताकि इस दीव्प पर रहने वाले लोगों की इच्छाओं की कदर हो सके. इन लोगों का आज तक सिर्फ एक बार बाहरी लोगों के साथ संपर्क हुआ जब सन 2006 में 2 मछुआरे नाव पर सवार होकर गलती से इनके दिव्प पर पहुंच गए थे. पर उन दोनों मछुआरों को इन लोगों के लोगों ने जान से मार दिया था.

तो दोस्तों यह थी पृथ्वी कि वह दिलचस्प जगह जहां इंसान आज तक नहीं पहुंच पाया है. क्या आप भविष्य में इन जगहों पर जाना चाहेंगे…

Follow us on Facebook


Notice: Undefined index: recomendations_protocol in /home/educationhouse/public_html/wp-content/plugins/free-comments-for-wordpress-vuukle/vuukleplatform.php on line 34