एक वक्त था जब खाने के भी पैसे नही थे , एक चूहे ने इस सख्स को बना दिया अरबपति

88 साल पहले यानि 31 मई 1929 को मिकी माउस पहली बार लोगों के सामने आया था। वॉल्ट डिजनी की गिनती दुनिया के सबसे सफल कारोबारियों में होती है। हालांकि डिजनी ने सफलता से पहले कई बार असफलताएं देखीं थी। वो दीवालिया हुए और कई बार उनके पास खाने तक के पैसे नहीं थे। लेकिन एक करेक्टर ने उन्हे अमर कर दिया। आज में आपको  वॉल्ट डिजनी की सफलता से जुड़ी कहानी के बारे में बता रहा हु

मिकी माउस से जुड़ी खास बातें

  • 31 मई 1929 को मिकी माउस का कार्टून कार्निवाल किड रिलीज किया गया था। ये पहला मौका था जब मिकी को आवाज मिली थी।
  • मिकी की पहली फिल्म 18 नवंबर 1928 को रिलीज हुई थी।
  • शुरुआती समय में कई बार डिजनी ने खुद मिकी माउस को आवाज दी थीं। हालांकि वाइसओवर में सबसे ज्यादा शोहरत व्याने ऑल्विन को मिली है। ऑल्विन ने मिकी माउस को 30 साल यानि 1977 से 2009 के बीच आवाज दी।
  • वहीं ऑल्विन की पत्नी रूसी टेलर ने भी मिनी माउस को आवाज दी थी।

सफलताओं से भरी थी वॉल्ट डिजने की जिंदगी

  • 19 साल की उम्र में डिज्नी ने अपनी पहली कंपनी शुरू की। डिज्नी यहां कार्टून बनाने का काम करते थे। हालांकि कंपनी एक भी कार्टून बेचने में सफल नहीं रही और डिज्नी को अपने दोस्त के घर आसरा लेना पड़ा। कई बार उनके पास खाने के लिए पैसे तक नहीं होते थे।
  • इस दौरान डिज्नी की स्थापित होने की कई कोशिशें असफल साबित हुई और वो फाइनेंशियल क्राइसिस तक पहुंच गए।

22साल में हो गए दीवालिया

  • कंसास सिटी में कार्टून सीरीज के फ्लाप होने की वजह से 22 साल की उम्र में डिज्नी दीवालिया हो गए। आमदनी के लिए डिज्नी को जॉब तक करनी पड़ी।
  • डिज्नी ने एक्टिंग में भी हाथ आजमाने की कोशिश की, लेकिन उन्हे मौका नहीं मिला।
  • एक न्यूज पेपर एडिटर ने ये कहकर उन्हें नौकरी से निकाल दिया कि उनके अंदर कल्पनाशीलता नहीं हैं और वो आलसी हैं।
  • ज्यादा जानकारी के लिए विडियो देखे 

https://youtu.be/mcKFIbSlzIQ