What is Section 144 affecting the common man

आम आदमी को प्रभावित करने वाली धारा 144 क्या होती है 

Articles EH Blog

अक्सर हम सभी सुनते हैं, देखते हैं या पढ़ते हैं कि पुलिस ने शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए धारा 144 लगा दी है कहीं भी किसी भी शहर में हालात बिगड़ने की संभावना या किसी घटना के बाद धारा 144 लगा दी जाती हैं| आज  मैं आपको बताने वाला हूं कि आखिर धारा 144 क्या है और इसका वायलेशन करने पर क्या क्या सजा हो सकती है और धारा 144 कहां लगाई जाती है|

What is Section 144 affecting the common man
What is Section 144 affecting the common man

1. क्या है धारा 144 

सीआरपीसी के तहत आने वाली धारा 144 शांति व्यवस्था कायम करने के लिए लगाई जाती है| इस धारा को लागू करने के लिए जिला मजिस्ट्रेट यानी के जिला अधिकारी एक नोटिफिकेशन जारी करता है और जिस जगह यह धारा लगाई जाती है वहां 5 या उससे ज्यादा लोग इकट्ठे नहीं हो सकते| इस धारा को लागू किए जाने के बाद उस स्थान पर हथियारों के लाने और ले जाने पर रोक लगा दी जाती है|

विश्व की 5 सबसे खूबसूरत जेल, जहां जाना हर किसी की ख्वाहिश रहती है

Image result for धारा 144

2. क्या है सजा का प्रावधान 

धारा 144 का वायलेशन करने वाले या इस धार का पालन ना करने वाले व्यक्ति को पुलिस गिरफ्तार कर सकती है उस व्यक्ति की गिरफ्तारी धारा 107 या फिर धारा 151 के तहत की जा सकती है| इस धारा का वायलेशन करने वाले या पालन नहीं करने वाले आरोपी को 1 साल कैद की सजा भी हो सकती है वैसे यह एक जमानती अपराध है इससे इसलिए इसमें जमानत हो जाती है. What is Section 144 affecting the common man

What is Section 144 affecting the common man

3. क्या है दंड प्रक्रिया संहिता 

दंड प्रक्रिया संहिता 1973 कोड आफ क्रिमिनल प्रोसीजर 1973 भारत में अपराधिक कानून के क्रियानयवन के लिए मुख्य कानून है जिसे 1973 में पारित किया गया था| भारत में यह 1 अप्रैल 1974 को लागू किया गया था| दंड प्रक्रिया संहिता का संक्षेप नाम सीआरपीसी है जब कोई अपराध किया जाता है तो सदैव दो प्रक्रिया, दो प्रोसेस होते हैं जिन्हें पुलिस अपराध की जांच करने में बनाती है| एक प्रोसेस पीड़ित के संबंध में होता है और दूसरा आरोपी के संबंध में होता है तो सीआरपीसी में इन दोनों प्रोसेस का ब्यौरा दिया गया है|

दवाइयों पर लिखे Rx, NRx, XRx और लाल पट्टी का क्या मतलब होता है! इन दवाइयों से होने वाले नुकसान

4. खराब व्यवहार की इजाजत नहीं देता है कानून 

कुछ मानव व्यवहार ऐसे होते हैं जिनकी कानून इजाजत नहीं देता| ऐसे व्यवहार करने पर किसी व्यक्ति को उसके नतीजे भुगतने पड़ सकते हैं. खराब व्यवहार को अपराध या गुनाह कहते हैं और उसके नतीजे को दंड यानी सजा कहा जा सकता है|

Image result for धारा 144

5. धारा 144 तोड़ने पर 1 साल की कैद 

सीआरपीसी की धारा 144 शांति व्यवस्था कायम करने के लिए लगाई जाती है. इस धारा को लागू करने के लिए जिला मजिस्ट्रेट द्वारा एक नोटिफिकेशन जारी की जाती है| जिस भी स्थान के लिए धारा 144 लगाई जाती है उस स्थान पर 5 या इससे ज्यादा लोग एक साथ इकट्ठे नहीं हो सकते| इस धारा से उस स्थान पर हथियारों का लाने और ले जाने पर भी रोक लगा दी जाती है| जो भी व्यक्ति इस धारा का पालन नहीं करता है या इस धारा का वायलेशन करता है तो फिर पुलिस उस व्यक्ति को धारा 107 या फिर धारा 151 के तहत गिरफ्तार कर सकती है| इस प्रकार के मामलों में 1 साल की कैद भी हो सकती है वैसे  यह एक जमानती अपराध है इसलिए इस में जमानत आसानी से मिल जाती है. What is Section 144 affecting the common man 

दुनिया का सबसे अमीर गांव, जहां हर एक आदमी कमाता है 8 लाख रूपए महिना!

Related image

सुप्रीम कोर्ट के वकील डीबी गोस्वामी के मुताबिक यह एक निषेधात्मक आदेश है धारा 144 किसी विशेष जिले थाने यह तहसील में लगाई जा सकती है| इस धारा का इस्तेमाल शांति कायम रखने के लिए किया जाता है जब भी प्रशासनिक अधिकारी को अंदेशा हो के इलाके में शांति व्यवस्था प्रभावित हो सकती है तो यह धारा लगाई जा सकती है| इसका उल्लंघन करने वालों को पुलिस धारा 107 ,151 के तहत गिरफ्तार करती है गिरफ्तारी के बाद उसे इलाके के एचडीएम या एसपी के सामने पेश किया जाता है क्योंकि एक अपराध जमानती है इसलिए बैल बॉन्ड भरने के बाद आरोपी को रिहा करने का इसमें प्रावधान किया गया है| निषेधाज्ञा के उल्लंघन के मामले में पुलिस संदिग्ध को उठाकर किसी दूसरे इलाके में भी पहुंचा सकती है और जिस इलाके में निषेधाज्ञा लगी हो वहां आने से रोक सकती है|

What is Section 144 affecting the common man
What is Section 144 affecting the common man

6. लग सकती हैं और भी धाराएं 

निषेधाज्ञा का उल्लंघन करने वाले शख्स ने मजिस्ट्रेट के सामने पेशी के दौरान अगर बेल बांड नहीं भरा तो उसे जेल भेज दिया जाता है| इस मामले में ज्यादा से ज्यादा 1 साल की कैद हो सकती है| निषेधाज्ञा के उल्लंघन के दौरान पुलिस कई बार आईपीसी की धारा 188 यानी सरकारी आदेश को ना मानने के तहत केस दर्ज कर सकती है ऐसे मामले में ज्यादा से ज्यादा 1 महीने की या ₹200 जुर्माने का प्रावधान है| गोस्वामी के मुताबिक अगर निषेधाज्ञा का उल्लंघन करने वाले ने दंगा फसाद किया हो या सरकारी काम में बाधा डाली हो या फिर मारपीट की हो तो मामले में अलग से आईपीसी की धाराएं लगाए जाने का प्रावधान है|

दुनिया की 5 बड़ी कंपनी एक मिनट में कमाती है इतने करोड़ रुपए!

दोस्तों क्या आपने कभी धारा 144 का सामना किया है हमे कमेंट में जरुर बताये 

Connect with us on facebook