4 नवंबर को कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा

4 नंवबर है बहुत ही खास, यदि आप इस दिन करते है ये उपाय तो भर जाएगी आपकी तिजोरियां

Articles
4 नंवबर है बहुत ही खास, यदि आप इस दिन करते है ये उपाय तो भर जाएगी आपकी तिजोरियां
4 नवंबर को कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा है। चातुर्मास की समाप्ति के बाद कार्तिक मास की इस पूर्णिमा का बहुत महत्व है। पूर्णिमा के दिन किया गया दान-पुण्य अक्षय फलों की प्राप्ति कराता है। इस दिन शनिवार पड़ रहा है। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार इस दिन की गई पूजा से सभी दुख दूर हो सकते हैं। कुंडली के दोष दूर करने के लिए भी ये तिथि बहुत शुभ मानी गई है।  शास्त्रों के अनुसार इस दिन ब्राह्मण के साथ ही अपनी बहन, बहन के लड़के, यानी भानजे, बुआ के बेटे,मामा को भी दान स्वरूप कुछ न कुछ जरूर देना चाहिए। इन सबको इस दिन दान देने से धन-सम्पदा में हमेशा बरकत ही बरकत होती है। इस योग में शनि के उपाय भी कर सकते हैं। इन उपायों से धन संबंधी परेशानियों से दूर हो सकती हैं।
4 नवंबर को कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा
4 navambar ko kaartik maas ke shukl paksh kee poornima
इस दिन पूर्णिमा के दिन चन्द्रमा ठीक 180 डिग्री के अंश पर होता है। इसलिए पूर्णिमा के दिन चन्द्रमा से जो किरणें निकलती हैं, वे काफी इफेक्टिव होती हैं और इनका सीधा असर दिमाग पर पड़ता है। चन्द्रमा पृथ्वी के सबसे नजदीक है, इसलिए चन्द्रमा का सबसे ज्यादा प्रभाव पृथ्वी पर ही पड़ता है। जानिए इस दिन कौन से उपाय करना चाहिए।
4 नवंबर को कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा
4 navambar ko kaartik maas ke shukl paksh kee poornima
1. कार्तिक मास की पूर्णिमा के दिन आप सुबह जल्दी उठकर सूर्य भगवान को जल चढ़ाएं इसके साथ ही जल में चावल और लाल फूल भी डाल दें।
2. इस दिन आप सरसों का तेल, तिल, काले वस्त्र किसी जरूरतमंद को दान करें।
3. पूर्णिमा की शाम को आप तुलसी के पास दीपक जलाएं और उनकी परिक्रमा करें।
4.घर में सत्यनारायण की कथा करवाएं और उन्हें खीर और हलवे का भोग लगाएं।
5.इसके अलावा आज कार्तिक पूर्णिमा के दिन सुबह स्नान के बाद घर के मुख्यद्वार पर अपने हाथों से आम के पत्तों का तोरण बनाकर बांधे। इससे घर में आने वाली परेशानी और निगेटिव एनर्जी घर के बाहर तक आकर ही रह जायेगी, अन्दर प्रवेश नहीं कर पायेगी।

Notice: Undefined index: recomendations_protocol in /home/educationhouse/public_html/wp-content/plugins/free-comments-for-wordpress-vuukle/vuukleplatform.php on line 34