How many animals are sacrificed in a day in Hajj

हज में एक दिन में कितने जानवरों की कुर्बानी दी जाती है? यह जानकर आपके होस उड़ जायेगे

Articles EH Blog

हज यानी मुस्लिमों की जिंदगी का बेहद जरूरी धार्मिक काम , इस्लाम के पांच सिद्धांतों में से एक| ऐसा माना जाता है कि अगर कोई मुस्लिम समर्थ है , तो उसे अपनी जिंदगी में एक बार हज यात्रा जरूर करनी चाहिए . हज यात्रा पूरी होती है काबा का तवाफ  करके.. यानी काबा की परिक्रमा करके|

How many animals are sacrificed in a day in Hajj

काबा की परिक्रमा

काबा पड़ता है सऊदी अरब के शहर मक्का में. जहां हर साल दुनिया भर के लाखों मुस्लिम हज यात्रा के लिए इकट्ठा होते हैं| हज यात्रा में 5 दिन का वक्त लगता है क्योंकि कई सारी रस्में होती हैं जिन्हें पूरा करना पड़ता है और इन्हीं रस्मो में से एक है कुर्बानी. हज यात्रा तभी पूरी मानी जाती है जब हज यात्री द्वारा कुर्बानी दी जाती है|

Image result for कुर्बानी की रस्म

कुर्बानी की रस्म

हज यात्रा पर गया मुस्लिम कुर्बानी देता है हर हाजी यात्री को यह करना होता है . किसी एक जानवर की कुर्बानी देनी होती है | जिन की कुर्बानी दी जाती है उनमे भेड़ , बकरा और ऊंट शामिल होते हैं और जिस दिन यह काबा में कुर्बानी दी जाती है वह दिन होता है ईद उल अजहा यानी बकरी ईद का दिन|

क्या आप जानते हैं भारत में नंबर प्लेट कितने प्रकार की होती है?

जानवरों की कुर्बानी

आंकड़े बताते हैं कि साल 2016 में करीब 15 लाख मुस्लिम हज यात्रा पर गए थे| इसका मतलब है कि पिछले साल 15 लाख जानवरों की कुर्बानी दी गई थी| सऊदी अरब के हज के निदेशक अब्दुल मजीद मोहम्मद अल अफगानी ने मीडिया को बताया है कि इस साल लगभग 25 लाख मुस्लिमों के काबा पहुंचने की संभावना है यानी इसका मतलब यही हुआ कि इस साल 25 लाख जानवरों की कुर्बानी दी जाएगी|

How many animals are sacrificed in a day in Hajj

कुर्बानी के बाद आखिर जानवरों का मांस जाता कहां हैं

25 लाख जानवर बहुत बड़ा आंकड़ा है. जाहिर सी बात है कि अगर इतने जानवर काटे जाएंगे , तो यह सवाल उठता है कि उनका मीट कहां जाएगा , उनका खून कहां जाएगा … अगर इतने जानवर एक ही जगह पर एक साथ काटे जाते हैं कुछ ही दिनों के अंतराल में तो जाहिर सी बात है कि उस जगह पर खून ही खून,  मास ही मास दिखेगा | वैसे शरीयत का नियम यह कहता है कि हज पर जो हाजी गया है वह जिस जानवर को काटता है जिसकी कुर्बानी देता है उसका एक हिस्सा खुद खा सकता है और बाकी के दो हिस्से उसे गरीब लोगों में बांट देना होता है , जो उनके खाने के काम आता है | लेकिन जब एक ही जगह पर इतने जानवर काटे जाएंगे तो एक हिस्सा ना तो हाजी खुद खा पाएगा और ना ही बचे हुए दो हिस्से बाँट सकता है. वहां पर इतने गरीब भी नहीं होंगे और अगर होंगे भी तो वह भी एक साथ इतना ज्यादा मीट नहीं खा पाएंगे |

भारत की 9 ऐसी बातें जो भारत को पूरी दुनिया से अलग बनाती हैं|

तो यहां पर सवाल उठता है कि इन जानवरों का होता क्या है… ऐसे में सऊदी अरब में जब तक कोई खास इंतजाम नहीं किया गया था तब तक मीट इधर उधर बिखरा पड़ा रहता था| दशकों पहले जब मशीनें नहीं हुआ करती थी . तब लोग इन जानवरों को दफन कर देते थे | सऊदी अरब में जिस समय हज यात्रा हो रही होती है उस समय तापमान करीब 40 डिग्री सेल्सियस से भी ऊपर होता है. ऐसे में इन जानवरों को लंबे समय तक रख पाना उनका रखरखाव भी काफी मुश्किल होता है . लेकिन अब सऊदी अरब की सरकार ने कई ऐसे इंतजाम कर दिए हैं जिनसे इन जानवरों का मांस सुरक्षित रख लिया जाता है.

Image result for काबा की परिक्रमा

यूटिलाइजेशन ऑफ़ मीट प्रोजेक्ट

36 साल पहले सऊदी अरब की सरकार ने एक प्रोजेक्ट शुरू किया था. इस प्रोजेक्ट का नाम था यूटिलाइजेशन ऑफ़ हज मीट था | इसके तहत कुर्बानी के मांस को उन देशों में भेज दिया जाएगा जहां पर भारी तादाद में गरीब मुस्लिम रहते हैं. आंकड़ों की बात करें तो साल 2012 में कुर्बानी के बाद करीब करीब 1000000 जानवर दुनिया के 24 अलग-अलग देशों में भेजे गए थे| साल 2013 में यह मीट 28 देशों में भेजे गए थे . जिनमें सबसे बड़ा हिस्सा सीरिया गया था |

दुनिया 10 ऐसे देश जहां आपको रहने के लिए पैसे दिए जाते हैं

How many animals are sacrificed in a day in Hajj

इस्लामिक डेवलपमेंट बैंक

अब सऊदी अरब में कुर्बानी के लिए इस्लामिक डेवलपमेंट बैंक तैयार कर लिया गया है. जहां से कूपन लेकर मुस्लिम जानवरों की कुर्बानी करवा सकते हैं. इसका मक्का के पास एक बूचड़खाना भी है जहां पर जानवरों की कुर्बानी दी जाती है | फंडा सिंपल सा है आपको कूपन लेना है, कूपन ले कर आपको आगे बढ़ जाना है कूपन के आधार पर जो जानवर आपने चुना है उसका पैसा आपको  जमा करना पड़ता है| जाहिर सी बात है ऊंट , भेड़ , बकरी इन सब की कीमत अलग-अलग होती है | पैसे जमा करने के बाद आपको आगे भेज दिया जाता है . आप दूसरे प्रोसेस में लग जाते हैं और जब आपके जानवर की कुर्बानी होती है तब टेक्स्ट मैसेज के जरिए हाजियों को  बता दिया जाता है की कुर्बानी हो गई है | इससे ना तो गंदगी होती है ना ही खून फैलता है और सारा सिस्टम भी बना रहता है. वहीं से यह तय हो जाता है कि कितना मांस कहां पर आना है और उसका रखरखाव भी अच्छी तरह हो जाता है |

इन 8 लोगों के पास है दुनिया की आधी दौलत! जानिए कोन है ये

जानवरों का इंपोर्ट

अब सवाल यह उठता है कि सऊदी अरब में जब हर साल एक ही महीने में या एक  तयशुदा वक्त में इतने जानवरों की कुर्बानी दी जाती है तो वह आते कहां से हैं … उन्हें इंपोर्ट किया जाता है |  सबसे ज्यादा जानवर आते हैं सोमालीलैंड से जिस की तादात करीब 1000000 की होती है | सोमालीलैंड के अधिकतर लोग पशुपालन का ही काम करते हैं . लेकिन अब सूडान और ऑस्ट्रेलिया ने भी इस मामले में सोमालीलैंड को कड़ी टक्कर देने लगे हैं | इसके अलावा उरुग्वे और पाकिस्तान जैसे देशों से भी एक्सपोर्ट किए जाते हैं|

आप इस बारे में क्या सोचते है हमे कमेंट में जरुर बताये.. अगर आपको हमारी न्यूज़ अच्छी लगी हो तो लाइक और शेयर करना ना भूलें… धन्यवाद |

दुनिया के 5 सबसे बड़े मूर्ख चोर, इनके बारे में जानकर आप हंसने लगेगे

Follow us on Facebook

Source: The lallantop


Notice: Undefined index: recomendations_protocol in /home/educationhouse/public_html/wp-content/plugins/free-comments-for-wordpress-vuukle/vuukleplatform.php on line 34