seven Wonders of World

दुनिया के सात अजूबों के बारे में जानकर आप हैरान हो जाएंगे

Articles EH Blog

हेलो दोस्तो मेरा नाम अनिल पायल है, दुनिया के सात अजूबे प्राकृतिक और मानव निर्मित संरचनाओं का संकलन है जो अपनी अद्भुत कला, संरचना और खूबसूरती से मनुष्य को आश्चर्यचकित करती हैं. प्राचीन काल से वर्तमान काल तक दुनिया के अजूबों की ऐसी कई विभिन्न सूचियां तैयार की गई हैं. लगभग 2200 साल पहले यूनान के विद्वानों ने दुनिया के सात अजूबों की सूची तैयार की थी और यही सात अजूबे लगभग 2100 सालों तक दुनिया में प्रचलित रहे थे लेकिन 1999 में इसमें बदलाव करने की बात चली क्योंकि पुराने अजूबों में अधिकांश टूट-फूट चुके थे|

टेलीफोन का आविष्कार कैसे और कब हुआ था? रोचक जानकारी

seven Wonders of World

2007 में पुर्तगाल की राजधानी लिस्बन में दुनिया के सात अजूबों के नामों की घोषणा की गई. दुनिया के सात अजूबों में गीजा के पिरामिड, बेबीलोन के झूलते बाग, ओलंपिया में जूस की मूर्ति, आर्टेमिस का मंदिर, माउस लॉसेस का मकबरा, रोड्स की विशाल मूर्ति और अलेक्जेंड्रिया के रोशनी घर शामिल थे| वर्तमान में गीजा के पिरामिड के अलावा अन्य सभी अजूबे ध्वस्त हो चुके हैं. तो आज मैं आपको दुनिया के सात नये अजूबों के बारे में बताने वाला हूं. seven Wonders of World

क्या एक लड़के और लड़की का होटल के कमरे में संभोग करना कानूनन अपराध है?

Image result for Great Wall of China

1. चीन की दीवार : चीन की उत्तरी सीमा पर बनाई गई यह दीवार दुनिया की सबसे लंबी मानव निर्मित संरचना है. यह करीब 6500 किलोमीटर लंबी है और इसकी ऊंचाई 35 फिट है| यह दीवार चीन को सुरक्षा देती है. इस दीवार का निर्माण पांचवी सदी ईसा पूर्व में शुरू हुआ और शॉलवी सदी तक जारी रहा|

seven Wonders of World

2. जॉर्डन का पेट्रा : पश्चिमी एशिया के जॉर्डन में स्थित है पेट्रा एक ऐतिहासिक शहर है. यह लाल बलुआ पत्थरों से बनी इमारतों के लिए प्रसिद्ध है. यहां मौजूद इमारतों में 138 फुट ऊंचा मंदिर, ओपन स्टेडियम, नहर, तालाब आदि शामिल है| यहां की इमारतों की दीवारों पर पर हुई नकाशी बेहद खूबसूरत है|

राजस्थान के बारे में ये बातें आप बिल्कुल भी नहीं जानते होंगे

seven Wonders of World

3. Christ The Redeemer, Brazil : ब्राजील के रियो द जनरो में कारको बेडओं पर्वत की चोटी पर जीसस क्राइस्ट की क्राइस्ट द रिडीमर नाम की मूर्ति स्थित है| करीब 32 मीटर ऊंची इस स्टेचू का वजन 700 टन है. इसका निर्माण 1922 से 1931 के बीच किया गया था|

Image result for ताजमहल

4. ताजमहल: मुगल बादशाह शाहजहां ने अपनी बेगम मुमताज की याद में ताजमहल का निर्माण कराया था. बेपनाह मोहब्बत की निशानी ताजमहल को बनकर तैयार होने में करीब 20 साल का वक्त लगा| ताजमहल को मुगल शिल्प कला का उत्कृष्ट उदाहरण माना जाता है|

दुनिया की सबसे महंगी और कीमती चीज की कीमत जानकर आपके होश उड़ जाएंगे

seven Wonders of World

5. रोम का कोलोसियम : यह एक विशाल स्टेडियम है. इसका निर्माण 17 वी सदी में सम्राट वेस्पेशियन ने शुरू करवाया था| कहां जाता है कि इस स्टेडियम में 50000 लोग जंगली जानवरों और गुलामों के बीच में लड़ाई का खेल देखते थे. इस स्टेडियम की वास्तुकला ऐसी है कि इसकी नकल करना संभव नहीं है|

seven Wonders of World

6. Chichen itza , Mexico : मेक्सिको में स्थित चीचेन इट्ज़ा माया सभ्यता के सबसे प्राचीन शहरों में से एक है. यहां को पुलकौन का पिरामिड, सांप मूल के मंदिर, 1000 पिलरो का होल और कैदियों के लिए बनाए गए खेल के मैदान आज भी देखे जा सकते हैं| यहां गोकुल कुंड का पिरामिड स्थित है जो 79 फीट ऊंचा है जिसके चारों दिशाओं में 91 सीडिया है. इसकी एक सीडी साल के 1 दिन का प्रतीक है. इस पिरामिड के ऊपर बना चबूतरा साल के 365 वे दिन का प्रतीक है. seven Wonders of World

दुनिया के सबसे अमीर परिवार, पढ़कर दिमाग हिल जायेगा

Image result for Machu Picchu, Peru
7. Machu Picchu, Peru : दक्षिण अमेरिकी देश पेरू में जमीन से 2400 फीट की ऊंचाई पर माचू पिच्छू नान का शहर है. यह 15 वीं शताब्दी में बताया गया था. एंडीज पर्वतों के बीच यह शहर इंका सभ्यता का शहर है, माना जाता है कि पहले यह नगर संपन्न हुआ करता था पर बाद में स्पेन के आक्रमणकारी अपने साथी यहां चेचक जैसी बीमारियां लेकर आए जिसे धीरे धीरे यह शहर पूरी तरह से तबाह हो गया|

डीएनए क्या होता है और यह इतना महत्वपूर्ण क्यों है

दोस्तों आपको इनमे से कोनसा अजूबा सबसे ज्यादा पसंद या न पसंद है हमे कमेंट में जरुर बताये …. और क्या आपको कोई एसी चीज के बारे में पता है जिसे इन अजूबो में सामिल किया जा सके? 

Connect with us on Facebook


Notice: Undefined index: recomendations_protocol in /home/educationhouse/public_html/wp-content/plugins/free-comments-for-wordpress-vuukle/vuukleplatform.php on line 34