Could the law force the wife to live with her husband

क्या कानून पत्नी को पति के साथ रहे के लिए मजबूर कर सकता है

Articles EH Blog

अगर कोई हस्बैंड अपनी वाइफ के साथ नहीं रहना चाहता या वाइफ अपने हस्बैंड के साथ नहीं रहना चाहती ,  तो क्या कानून में ऐसा कोई प्रोविजन है , जो हस्बैंड को वाइफ के साथ या वाइफ को हस्बैंड के साथ रहने के लिए फोर्स कर सकें . तो दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम इसी टॉपिक  से रिलेटेड कुछ बात करेंग.

दुनिया के 5 अरबपति जीते है आम आदमी जैसी जिंदगी!

1. इंडियन लॉ का प्रोविजन

अगर कोई वाइफ अपने हस्बैंड के साथ नहीं रहना चाहती है या कोई हस्बैंड अपनी वाइफ के साथ नहीं रहना चाहता है ,  तो इंडियन लॉ में ऐसा कोई भी प्रोविजन नहीं है जो उन दोनों को एक दूसरे के साथ रहने के लिए फोर्स कर सकें | उदाहरण के लिए –  अगर कोई वाइफ अपने हस्बैंड के साथ नहीं रहना चाहती है , तो पुलिस उसको हस्बैंड के साथ रहने के लिए फोर्स नहीं कर सकती है और ना ही ऐसा कोई लॉ है , जो उसको हस्बैंड के साथ रहने के लिए फोर्स कर सके |

पृथ्वी की 6 ऐसी जगह जहां इंसान चाहकर भी नही जा सकता!

2. ऐसे में हस्बैंड क्या कर सकता है

लेकिन यहां हस्बैंड अपनी वाइफ से डाइवोर्स ले सकता है  किसी एक ग्राउंड पर जैसे क्रुएल्टी के ग्राउंड पर वह डाइवोर्स ले सकता है |  जिसके लिए उसको फैमिली कोर्ट में एक डाइवोर्स फाइल करने पड़ेगी उसके बाद कोर्ट वाइफ को एक नोटिस भेजेगा और वाइफ को कोर्ट में हाजिर होना पड़ेगा और दोनों  पार्टीस इसकी सुनवाई के बाद कोर्ट डाइवोर्स की डिग्री देगा |

Image result for hasbend wife in court

3. मेंटेनेंस का प्रोविजन

यहां पर आपको एक बात और समझ लेनी चाहिए कि हस्बैंड को इस हाल में भी वाइफ को मेंटेनेंस देना पड़ेगा |

यदि इंसान को भगवान ने बनाया तो फिर भगवान को किसने बनाया! अमेजिंग फैक्ट्स

4. कितना मेंटेनेंस देना होगा

मेंटेनेंस जो है वह हस्बैंड की इकनोमिक कंडीशन को देखकर हस्बैंड की सैलरी का 25% तक हो सकता है जो कि कोर्ट डिसाइड करता है.

शरीर में खून की कमी को दूर करने का सबसे आसन व रामबाण उपाय!

5. हसबैंड एक कंडीशन में मेंटेनेंस देने से बच सकता है 

अगर वाइफ अच्छा कमा लेती है तो फिर हस्बैंड मेंटेनेंस देने से बच सकता है लेकिन उसके लिए हस्बैंड को कोर्ट में वाइफ  की जॉब डिटेल्स और उसकी सैलरी स्लिप वगैरह पेश करनी पड़ सकती हैं |

6. मेंटेनेंस कब तक देना पड़ता है

देखिए वाइफ को मेंटेनेंस तब तक देना पड़ेगा जब तक की वाइफ या तो दूसरी शादी ना कर ले या फिर उसकी डेथ ना हो जाए |  अगर वाइफ की डेथ हो जाती है या वह दूसरी शादी कर लेती है तो फिर हस्बैंड की जिम्मे उसका मेंटेनेंस नहीं रहता है |

शहद और दूध के हैरान कर देने वाले फायदे!

तो दोस्तों अब तो आप सभी समझ ही गए होंगे कि अगर कोई वाइफ अपने हस्बैंड के साथ नहीं रहना चाहती है  , तो कोई भी कानून उसको फोर्स नहीं कर सकता है. उम्मीद है आज की पोस्ट से आप सभी को कुछ तो फायदा होगा . अगर आप सभी को हमारा आज का पोस्ट अच्छा लगा हो तो लाइक और  शेयर जरूर कीजिएगा.. धन्यवाद |