Do you know what is the punishment of IPC Section 504 and 506

क्या आप जानते है IPC की धारा 504 और 506 पर क्या सजा होती है?

Articles EH Blog

सबसे पहले हम बात करते हैं IPC है क्या? IPC यानी INDIAN PENAL CODE में भारत में रहने वाले लोगों के द्वारा किए गए क्राइम को डिफाइन किया गया है और उनके लिए सजा या पनिशमेंट का PROVISION किया गया|

Do you know what is the punishment of IPC Section 504 and 506
IPC को 1860 में ब्रिटिश काल में लागू किया गया था| जम्मू कश्मीर और इंडियन मिलिट्री को छोड़ कर के पूरे भारत में लागू है| INDIA के साथ साथ ही पाकिस्तान और बांग्लादेश में भी IPC लागू है|

भारत की 8 ऐसी जॉब्स जो देती है सबसे ज्यादा टेंसन व स्ट्रेस!

Related imageचलिए बात करते हैं आईपीसी की धारा 504 क्या कहती है| अगर कोई व्यक्ति यदि किसी अन्य व्यक्ति का अपमान करता है, उसकी  INSULT करता है, कोई क्राइम करने के लिए उसको उकसाता है| तो उस पर IPC की धारा 504 लगती है| इसको आप आसान से शब्दों में ऐसे समझिए कि कोई एक व्यक्ति दूसरे अन्य व्यक्ति की INSULT करता है, अपमान करता है और वह यह जानता है कि मैं अगर इसका अपमान करूंगा तो यह कोई क्राइम करेगा तो उस पहले व्यक्ति पर जो अपमान करता है IPC की धारा 504 लगती है| आईपीसी की धारा 504 में 2 साल तक की सजा का PROVISION किया गया है|

क्या आप जानते हैं वकील BLACK और डॉक्टर WHITE ड्रेस क्यों पहनते हैं

आईपीसी की धारा 506 – यदि कोई भी व्यक्ति अन्य व्यक्ति को धमकी देता है| जैसे कि किसी को जान से मारने की धमकी देना या किसी को आग से जलाना या किसी की प्रॉपर्टी को आग से जला कर खत्म करने की धमकी देना, या किसी का रेप करने की धमकी देना| तो इस तरह की धमकी अपराधिक यानी क्रिमिनल धमकी कहलाती है| ऐसी धमकियां देने पर आईपीसी की धारा 506 लगती है| धमकी के साथ साथ ही अगर कोई व्यक्ति किसी इज्जतदार औरत की आबरू पर उसकी इज्जत पर लांछन लगाता है| तो उसके ऊपर IPC की धारा 506 लगती है| इसको आप ऐसे समझिए कोई व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति को किसी ऐसे क्राइम के लिए धमकी देता है| तो उस क्राइम को करने पर कम से कम 7 साल की सजा हो सकती है या मौत की सजा हो सकती या फिर उम्र कैद सजा हो सकती है. IPC की धारा 506 में 7 साल की सजा या जुर्माना या फिर सजा और जुर्माना दोनों का ही PROVISION किया गया है| IPC की धारा 506 में गवाहों की ज्यादा जरूरत नहीं होती| अगर पीड़ित यानी जिस को धमकी दी गई है| वह कोर्ट में यह साबित कर दे कि उसको इस चीज की धमकी दी गई है| तो IPC की धारा 506, धारा 302 और 307 से भी खतरनाक होती है|

आप इन 8 देशों में इंडियन ड्राइविंग लाइसेंस से कर सकते है ड्राइविंग!

Follow us on Facebook

Source: ISHAN LLB