amazing human in India

भारत में घटी इन घटनाओं को जानकर आपके होस उड़ जायेगे!

Articles

दोस्तों हम हमेशा से ही विश्व के इतिहास में बड़े-बड़े रहस्य को ढूंढते हैं. क्या आपको पता है हमारे भारत देश में ही कुछ ऐसी घटनाएं घटती हैं जिसके साक्षात्कार राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जैसे महापुरुष कर चुके हैं . वह सभी घटनाएं आज तक विज्ञान को चुनौती दे रहे हैं| आज में आपको भारत के कुछ ऐसे चमत्कारी घटनाओं के बारे में जिसे विज्ञान भी समझने में असमर्थ है |

amazing human in India

1.प्रहलाद  जानी

प्रहलाद जानी को आप दुनिया का आठवां अजूबा भी कह सकते हैं. प्रहलाद जानी पिछले 72 सालों से अन्न का एक टुकड़ा भी नहीं खाया है,  जी हां दोस्तों प्रहलाद जानी एक ऐसे मनुष्य हैं जिन्होंने अपने पिछले 72 सालों से बिना कुछ खाए पिए जीवित है | 87 वर्षीय प्रहलाद जानी के इस दावे की जांच करने के लिए डॉक्टरों की 35 रिसर्च टीम ने उन्हें 15 दिन तक स्टर्लिंग हॉस्पिटल की एक CCTV से लेस कमरे में बंद करके रखा था. लेकिन उनके शरीर में कोई प्रक्रिया नहीं हुई और वह नॉर्मल बने रहे |

Online Job From Home For Everyone in Education House Group

Related image

विज्ञान के अनुसार कोई भी व्यक्ति 7 दिन से ज्यादा बिना पानी पिए नहीं रह सकता, लेकिन 87 वर्षीय प्रहलाद जानी विज्ञान को पिछले  72 सालों से चुनौती देते आ रहे हैं और पूरी तरह से स्वस्थ और रोगमुक्त हैं | अगर दोस्तों हम इनके भूखे रहने वाले रहस्य को जान लेते हैं तो, हम भुखमरी से पूरी तरह से निजात पा लेंगे और पृथ्वी के कठिन से कठिन परिस्थितियों में भी पृथ्वी पर सरवाइव कर पाएंगे |

amazing human in India

2.बुलेट बाबा

इन्हें ओम बन्ना के नाम से भी जाना जाता है. सन 1988 में राजस्थान के ओम बन्ना नाम के बुलेटसवार व्यक्ति  अपने ससुराल से घर जा रहे थे लेकिन दुर्भाग्यवश में रास्ते में ही एक पेड़ से टकरा गए और घटनास्थल पर ही उनकी मृत्यु हो गई | स्थानीय पुलिस घटना स्थल पर पहुंच गई. उस Bullet को थाने में जप्त कर लिया गया . लेकिन अगले ही दिन  पुलिसकर्मियों को वह Bullet थाने में नहीं मिली | वह Bullet बिना सवारी अपने आप चल कर ठीक उसी स्थान पर चली गई थी जहां पर ओम बन्ना की मृत्यु हुई थी | पुलिस फिर से उस Bullet को थाने लेकर आई और फिर से Bullet वापस दुर्घटनास्थल पर आ गई . कई बार ऐसा होने के बाद पुलिस ने गाड़ी को चैन से बांध दिया .लेकिन इसके बाद भी वह Bullet सबके सामने अपने आप चालू होकर अपने मालिक की मृत्यु स्थल पर पहुंच गई |

क्या आप जानते हैं एप्पल के पास कितना पैसा है? अमेजिंग फैक्ट्स

amazing people in India

कई बार ऐसा होने पर ग्रामीणों और पुलिसकर्मियों को यह एक चमत्कार लगा और वह उस Bullet को उसी जगह पर छोड़ दिए और आज भी वह Bullet वहां मौजूद है. उस दिन से आज तक वहां कोई और दुर्घटना नहीं हुई हलाकि यह जगह राजस्थान के सबसे बड़े दुर्घटना क्षेत्रों में से एक थी| अब इस बुलेट को लोगो ने भगवान का रूप दे दिए हैं और इसकी पूजा करने श्रद्धालु दूर – दूर से आते हैं | दोस्तों यह सभी घटनाएं किसी सी ग्रेड न्यूज़ या फिल्मों की तरह लगती हैं , लेकिन इन घटनाओं के चश्मदीदों के अनुसार यह घटनाएं शत प्रतिशत सच है|

राष्ट्रपति भवन की कीमत कितनी है! जानकर चौंक जायेंगे

Image result for शांति देवी

3.शांति देवी

शांति देवी जब  4 साल की थी तभी से उन्हें उनकी पिछले जन्म की यादें परेशान करने लगी. दिल्ली में रहने वाली शांति अपने माता-पिता से कहने लगी कि, उनका घर मथुरा में है और उनके पति वहां उनकी राह देख रहे हैं , लेकिन जब घरवालों ने उनकी इन बातों को नजरअंदाज कर दिया तो वह अपनी 6 साल की उम्र में ही मथुरा जाने के लिए घर से भाग गई थी| जब उनको स्कूल में दाखिला दिलाया गया तब वहां भी वह सभी को यही कहती थी कि वह शादीशुदा है और एक बच्चे को जन्म देने के 10 दिन बाद उनकी मृत्यु हो गई . जब उनके अध्यापकों और स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों से इस मसले पर बात की गई तो सभी का यही कहना था कि वह मथुरा की क्षेत्रीय भाषा में बात करती है और बार-बार अपने पिछले जन्म के पति केदारनाथ का नाम लेती हैं |

55 करोड़ का मोबाइल! दुनिया के 10 सबसे महंगे मोबाइल फोन

Image result for शांति देवी

स्कूल के हेडमास्टर ने इस घटना में रुचि दिखाई और उन्होंने मथुरा में रहने वाले केदारनाथ को भी ढूंढ निकाला था| जिनकी पत्नी लुगड़ी देवी की मौत बच्चे के जन्म देने के 10 दिन बाद हुई थी | उसके बाद केदारनाथ और उनके बेटे को दिल्ली बुलाया गया और शांति देवी के सामने उन्हें अलग- अलग नाम से पेश किया गया | लेकिन शांति देवी ने उन्हें देखते ही पहचान लिया की है लुगदी देवी का परिवार है . उसके बाद शांति देवी ने केदारनाथ को अपनी बहुत सी घटनाओं के बारे में बताया जिससे केदारनाथ को यह विश्वास हो गया की शांति देवी उनकी पत्नी है |

हनुमान जी की उड़ने की स्पीड को जानकर चौंक जायेंगे आप!

स घटना ने विज्ञान जगत मैं बहुत से प्रश्न खड़े कर दिए थे| महात्मा गांधी ने इसकी जांच करने के लिए एक जांच टीम की गठन किया और उन्हें इस मसले पर पूरी तरीके से जांच करने का आदेश  दिया | उसके बाद जांच टीम के अनुसार – शांति देवी को मथुरा ले जाया गया , जहां शांति देवी सभी को पहचानती थी | वह केदारनाथ और लुगदी देवी के सभी परिवार घर आदि सब कुछ शांति को पता था और अंत में जांच कर यह निष्कर्ष निकाला की शांति देवी के रूप में ही लुगदी देवी ने दूसरा जन्म लिया है |

 आप इन घटनाओं के बारे में क्या सोचते है? हमे कमेंट में जरुर बताये….. 

Follow us on Facebook

Credit: Univers Adventure


Notice: Undefined index: recomendations_protocol in /home/educationhouse/public_html/wp-content/plugins/free-comments-for-wordpress-vuukle/vuukleplatform.php on line 34